News

करणी सेना बोली 'फ़िल्म पद्मावत, राजपूतों की वीरता को बख़ूबी बयान करती है'

Last Modified - February 3, 2018, 4:10 pm

कुछ भी हो जाये, हम इस फ़िल्म पद्मावत को रिलीज़ नहीं होने देंगे, बोलने वाली करणी सेना अब पूरे देश में फिल्म को रिलीज करेगी. दीपिका की नाक काट कर लाने वाले को 5 करोड़ रुपये का इनाम घोषित करने वाली करणी सेवा ने जब फिल्म पद्मावत देखी तो बाले फिल्म में 'कोई भी आपत्तिजनक सीन नहीं पाया गया और इसलिए अब इस फिल्म को लेकर उनका गुस्सा भी शांत हो चुका है। जिस फ़िल्म के ख़िलाफ़ पिछले कुछ महीनों से श्री राजपूत करणी सेना ने इतना हंगामा किया, अब उसी करणी सेना का कहना है कि 'हम प्रशासन की पूरी मदद करेंगे ताकि वो मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात के साथ-साथ पूरे देश में फ़िल्म रिलीज़ कर पाएं। 

दरसअल, राजपूत करणी सेना संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष सुखदेव सिंह गोगामदी के निर्देश पर कुछ सदस्यों ने शुक्रवार को मुंबई में फ़िल्म पद्मावत देखी, जिसके बाद उन्होंने पाया कि यह फ़िल्म हर राजपूत की वीरता और उनके बलिदान का गुणगान करती है. उन्होंने माना कि दिल्ली सल्तनत के शासक अलाउद्दीन खिलजी और मेवाड़ की रानी पद्मिनी के बीच ऐसा कोई आपत्तिजनक दृश्य नहीं है, जो राजपूतों की भावनाओं को ठेस पहुंचाए। इसके बाद राजपूत करणी सेना के अध्यक्ष सुखदेवसिंह गोगामेड़ी ने फ़िल्म 'पद्मावत' के निर्देशक संजय लीला भंसाली के ख़िलाफ़ जारी अपना विरोध प्रदर्शन, ये कहते हुए वापिस ले लिया कि 'फ़िल्म पद्मावत, राजपूतों की वीरता को बख़ूबी बयान करती है।

 

आपको बता दें कि राजपूत करणी सेना   द्वारा इस चिट्ठी के बारे में भंसाली प्रॉडक्शन की सीईओ शोभा संत ने Twitter पर लिखा है कि हम आशा करते हैं कि फिल्म पद्मावत देश के सभी राज्यों में रिलीज होगा.

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News