IBC-24

छत्तीसगढ़ कांग्रेस को मिला 'द्रोण', इनकी बिसात पर चुनावी चाल चलेगी कांग्रेस

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 04 Feb 2018 01:38 PM, Updated On 04 Feb 2018 01:38 PM

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा छत्तीसगढ़ कांग्रेस चुनाव समिति में जगह दी गई है. पूर्व सांसद पुष्पादेवी सिंह को भी चुनाव अभियान समिति में शामिल किया गया है. पहली सूची में दोनों को नहीं मिली थी जगह. 

  

छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव इसी साल होने हैं. प्रदेश में बीजेपी दशकों से सत्ता में काबिज है. ऐसे में अपने चीर प्रतिद्वंदी को परास्त कर कांग्रेस को दशकों से सत्ता का सूखा मिटाने के लिए सबको साथ लेकर और वरिष्ठजनों का मार्गदर्शन में चलना बेहद आवश्यक हो गया है.

ये भी पढ़ें- रमन सिंह के गढ़ में अजीत जोगी की चुनौती, राजनांदगांव से लड़ेंगे चुनाव  

मोतीलाल वोरा कांग्रेस के वरिष्ठ और दिग्गजों के करीबी माने जाते हैं. मोतीलाल वोरा अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं. उत्तर प्रदेश के राज्यपाल, केंद्रीय कैबिनेट मंत्री और उत्तर प्रदेश के राज्यपाल रह चुके हैं. छत्तीसगढ़ कांग्रेस चुनावी मैदानों में अब इस दिग्गज अनुभवि के पैंतरों पर चाल चलेगी. 

मोतीलाल वोरा की राष्ट्रीय राजनीति पर एक नजर-

 

मोतीलाल मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री (1985-1988, 1989) और उत्तर प्रदेश के पूर्व राज्यपाल (1993-1996) रहे।

वोरा 1972 में मध्य प्रदेश की विधान सभा के लिए चुने गए। 1 977 और 1 980 में वे फिर से विधान सभा में निर्वाचित हुए। उन्हें अर्जुन सिंह के मंत्रिमंडल में राज्य मंत्री बनाया गया और उच्चतर प्रभारी शिक्षा विभाग। 1983 में उन्हें कैबिनेट मंत्री के रूप में दर्जा दिया गया था। उन्होंने 1981-84 के दौरान मध्य प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम के उपाध्यक्ष के रूप में भी कार्य किया।

    

13 मार्च 1985 को, वोरा को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया था। उन्होंने केंद्र सरकार में शामिल होने के लिए 13 फरवरी 1 9 88 को मुख्य मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया।

14 फरवरी 1988 को, वोरा राज्य सभा का सदस्य बन गए और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री, परिवार कल्याण और नागरिक उड्डयन के कार्यालय का पद ग्रहण कर लिया। वह भारत सरकार में कैबिनेट मंत्री थे। 16 मई 1 99 3 को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया और 3 मई 1 99 6 तक अपना पद संभाला। मोतीलाल वोरा 1998-99 में 12 वीं लोकसभा सदस्य थे।

ये भी पढ़ें- आखिर क्या होता है जौहर? आपने भी इसके बारे में जरुर सोचा होगा

1980 के दशक में, उन्होंने मध्यप्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया, पार्टी की राज्य इकाई राष्ट्रीय हेराल्ड केस: एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल), युवा भारतीय और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) में शामिल तीनों संस्थाओं में वोरा के महत्वपूर्ण पद हैं। 22 मार्च 2002 को वह एजीएल के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक बने। इससे पहले उन्होंने एआईसीसी के कोषाध्यक्ष के रूप में भी काम किया है।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Motilal Vora included in Chhattisgarh Election Committee

ibc-24