कोरबा News

बेटे ने की अनूठी पहल माँ के दशगात्र में लगाया चिकित्सा शिविर

Created at - February 6, 2018, 5:48 pm
Modified at - February 6, 2018, 5:48 pm

युवा अगर चाहे तो क्या कुछ नहीं कर सकते इसका उदहारण प्रस्तुत किया है कोरबा के समाजसेवक युवक ने जिसकी माँ का 10 दिन पहले निधन हो गया था। अचानक उसे इस बात का अहसास हुआ की क्यों न माँ के दशगात्र में कुछ ऐसा किया जाये जिससे समाजसेवी माँ की आत्मा को भी शांति मिले। और फिर उसने ये निर्णय लिया की पुरे गांव वालों को  निःशुल्क चिकित्सा शिविर प्रदान कर वह एक नई पहल की शुरुआत करेगा। आपको बता दें कि सुशीला देवी महतो की दशगात्र के दिन उनकी स्मृति में फ्री हेल्थ कैम्प का आयोजन किया गया. कैम्प में 500 से अधिक लोगों के निःशुल्क ब्लड प्रेशर और शुगर की जांच की गई. साथ ही कई लोगों ने स्वेच्छा से रक्तदान भी किया.गया। इस शिविर का सैकड़ों ग्रामवासियों ने लाभ उठाया और जमकर तारीफ की.

 ये भी पढ़े - हाइकोर्ट के निर्देश पर गैंगरेप पीड़िता का आज होगा अबॉर्शन

खबर ये भी है कि स्वर्गीय सुशीला देवी सामाजिक सेवा को हमेशा वरीयता देती थी. उन्होंने  मृत्यु से पहले ही नेत्रदान करने की घोषणा भी कर दी थी. माँ के अनुरूप छोटे बेटे ने उनके देहांत के बाद दशगात्र के दिन चिकित्सा शिविर का आयोजन करवाया. लोगों ने इस कदम की भूरि-भूरि प्रशंसा की. लोगों ने माँ की आत्मा की शांति और सुखद अनुभूति के लिए इस आयोजन को कारगर बताया.

 

 ये भी पढ़े - शिक्षाकर्मी का नया आंदोलन वेतन नहीं, तो अंगुठा नहीं

 

इस कार्यक्रम के आयोजन में चरामेति फाउंडेशन और बालाजी अस्पताल कोरबा का विशेष सहयोग रहा. चिकित्सा शिविर में उचित परामर्श के लिए बालाजी अस्पताल के डॉ कुम्भकार, डॉ सतदल नाथ, डॉ नीति राज, डॉ राजू श्रीवास, डॉ संदीप परिहार, डॉ अनिल जायसवाल, डॉ नागेंद्र नारायण शर्मा, डॉ संजय वैष्णव, डॉ दुर्गेश राठौर और अन्य कई वरिष्ट चिकित्सकों ने अपनी सेवाएँ दी. इसके साथ ही चरामेति फाउंडेशन के हरीश साहू, विमल सिंह, विकास साहू, प्रतीक साहू, किशन साव, अशोक जायसवाल, हर्ष जायसवाल, मनोज गुप्ता व अन्य कई लोगों ने कार्यक्रम के आयोजन में भरपूर सहयोग की. शोकाकुल महतो परिवार ने सबका आभार व्यक्त किया.

 

वेब टीम IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News