News

छत्तीसगढ़ स्वस्थ राज्यों के टॉप 5 में- नीति आयोग, 3 साल में बीमारी से 300 मौत- बघेल

Last Modified - February 9, 2018, 1:56 pm

नई दिल्लीछत्तीसगढ़ की डॉ. रमन सिंह सरकार के लिए चुनावी साल में एक बड़ी खुशखबरी आज सुबह-सुबह आई है। गुरुवार को छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने राज्य में बीमारियों से हुई मौत का आंकड़ा पेश करते हुए भाजपा सरकार पर हमला बोला था। इसके अगले ही दिन राष्ट्रीय नीति आयोग की ओर से जारी हेल्दी स्टेट्स, प्रोग्रेसिव इंडिया रिपोर्ट में छत्तीसगढ़ को स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में बेहतर प्रदर्शन के लिए सराहना मिली है। देश के सभी राज्यों को स्वास्थ्य सेवाओं के क्षेत्र में किए गए कार्यों और सुधार कदमों के मुताबिक नीति आयोग की ओर से ग्रेडिंग दी जाती है। इस रिपोर्ट के मुताबिक छत्तीसगढ़ ने इस क्षेत्र में अच्छा प्रदर्शन किया है और अब वो पांचवें स्थान पर आ गया है। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि पूर्वी राज्यों झारखंड चौथे नंबर पर है, झारखंड और छत्तीसगढ़ ने बहुत तेज़ी से अपनी रैंकिंग बेहतर की है, इन दोनों राज्यों ने कुछ बड़े सुधार किए हैं।

नीति आयोग के सीईओ ने कहा कि इस रैंकिंग को तय करने के दौरान पुरानी रैंकिंग, राज्यों के हालात और उनकी चुनौतियां, राज्य सरकार के कदमों को देखा जाता है और इसके बाद उन्हें अंक दिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि स्वस्थ भारत के निर्माण के लिए राज्यों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को प्रोत्साहन देना आयोग का मकसद है।

दूसरी ओर, नीति आयोग की रिपोर्ट जारी होने से सिर्फ एक दिन पहले ही छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने राज्य की स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर रमन सिंह के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार पर सवाल उठाए थे। भूपेश बघेल ने मीडिया रिपोर्ट के हवाले से ये कहा है कि 3 साल में 300 से ज्यादा लोगों की मौत अलग-अलग बीमारियों से हो चुकी है।

छत्तीसगढ़ में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में रमन सरकार के स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र की उपलब्धियों पर नीति आयोग की मुहर जहां भाजपा सरकार के लिए राहत की खबर है, वहीं विपक्षी दल कांग्रेस सरकार की खामियों को सामने लाने में पूरी ताकत झोंक रही है।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News