News

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद के खिलाफ जल्द खत्म होगी आखिरी जंग - रमन

Last Modified - February 10, 2018, 1:59 pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने शनिवार को विधानसभा में बजट पेश करने के दौरान कहा कि नक्सलवाद के खिलाफ अब अंतिम युद्ध चल रहा है। रमन सिंह ने ये भी कहा कि जल्दी ही इस युद्ध को समाप्त कर दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित ज़िलों में कानून-व्यवस्था को मज़बूत करने के लिए 2018-19 के बजट में 250 करोड़ रुपये के प्रावधान की घोषणा की है। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि विकास के लिए वो हर चुनौती का सामना करेंगे। उन्होंने कहा कि हमने चैन से नहीं बैठने का प्रण लिया है।

ये भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य के लिए बजट में रहा ये खास......

छत्तीसगढ़ नक्सलवाद की समस्या को लेकर हमेशा चर्चा में रहा है और अक्सर यहां नक्सली से मुठभेड़, नक्सलियों की गिरफ्तारी की ख़बरें आती रहती हैं। दूसरी ओर, एक सच ये भी है कि नक्सलियों के प्रभाव वाले क्षेत्र सिमटते जा रहे हैं। छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद अब मुख्य रूप से बस्तर और सुकमा जैसे ज़िलों में ही कानून-व्यवस्था के लिए चुनौती बने हुए हैं, सरगुजा, अंबिकापुर जैसे क्षेत्रों से करीब-करीब नक्सलवाद का सफाया किया जा चुका है। 

ये भी पढ़ें- छत्तीसगढ़ के बजट में किसानों के लिए ये रहा खास....

छत्तीसगढ़ में नक्सलियों के खात्मे के लिए केंद्र सरकार और रमन सिंह सरकार ने संयुक्त रूप से जो कार्ययोजना बनाई, उसके तहत एक ओर नक्सल प्रभावित इलाकों में सड़क, बिजली, संचार, शिक्षा, स्वास्थ्य जैसी सुविधाओं को बढ़ाने पर जोर डाला गया। आपको बता दें कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने 2017-18 के बजट में भी नक्सल प्रभावित बस्तर जिले में 146 नए मोबाइल टावर स्थापित करके और 800 किलोमीटर ऑप्टिकल फाइबर केबल बिछाकर संपर्क सुविधा को मजबूत किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- शिक्षा बनाम 'बजट छत्तीसी' जानिए बजट में शिक्षा के लिए क्या योजनाएं हैं ?

उन्होंने नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में आर आर पी 1 योजना के तहत 1 हजार 224 किलोमीटर सड़कों के निर्माण की जानकारी दी थी और योजना के दूसरे चरण में 891 किमी सड़क और 11 पुल निर्माण हेतु 2400 करोड़ की स्वीकृति की जानकारी दी थी।   दूसरी ओर, केंद्रीय सुरक्षा बलों और स्थानीय पुलिस ने नक्सली ठिकानों पर लगातार छापेमारी और मुठभेड़ कर उन्हें कुछ क्षेत्रों तक सीमित करने में सफलता हासिल की। हाल के वर्षों में सुरक्षा बलों के संयुक्त ऑपरेशंस को अच्छी कामयाबी मिली है।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News