News

तीसरी पारी के अंतिम बजट में मुख्यमंत्री ने महिला स्वास्थ पर दिया विशेष ध्यान

Last Modified - February 10, 2018, 5:30 pm

अपनी तीसरी पारी केअंतिम बजट में मुख्यमंत्री ने महिलाओ के स्वस्थ पर भी विशेष ध्यान दिया है जिसके तहत महिला और बच्चों के लिया लगभग 770 करोड़ के बजट का प्रावधान है।

जिसके तहत -

-आंगनबाड़ी केन्द्रों के माध्यम से पूरक पोषण आहार कार्यक्रम में दी जाने

वाली सहायता में वृद्धि की गई है। यह सहायता अब बच्चों  के  लिए 6 रूपये के स्थान

पर 8 रूपए , गर्भवती महिलाओं को  7 रूपये के  स्थान पर 9 रूपये 50 पैसे तथा किशोरी 

बालिकाओ  के लिए 5 रूपये के स्थान पर 9 रूपये 50 पैसे की दर से उपलब्ध कराया

जायेगी। इस योजना के लिए  735 करोड़ का प्रावधान रखा गया है.

 -आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं एवं सहायिकाओं द्वारा महिलाओं एवं बच्चों के

कल्याण की योजनाओं में योगदान को देखते हुए राज्य सरकार ने आंगनबाड़ी

कार्यकर्ताओं की मानदेय राशि 4 हजार से बढ़ाकर 5 हजार, आंगनबाड़ी

सहायिकाओं की मानदेय राशि 2 हजार से बढ़ाकर 2 हजार 500 एवं मिनी

आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की मानदेय राशि 2 हजार 250 से बढ़ाकर 2 हजार 750

करने का निर्णय लिया है। एक लाख से अधिक आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं

सहायिकाओं को इसका लाभ प्राप्त होगा।

- आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं तथा सहायिकाओं की सेवा पूरी होने पर शासन

द्वारा कार्यकर्ताओं को 50 हजार तथा सहायिकाओं को 25 हजार एकमुश्त राशि

दी जायेगी

- प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के अंतर्गत् 100 करोड़ का प्रावधान है.

- एकीकृत बाल विकास सेवा योजना के  अंतर्गत 525 करोड़ 92 लाख का प्रावधान 

है। मुख्यमंत्री अमृत योजना के  अंतर्गत 42 करोड़ 95 लाख, महतारी जतन योजना के अंतर्गत 25 करोड़ का प्रावधान है। 

 

ज्ञात हो की  इस साल दिसंबर में होने वाले चुनावों को देखते हुए सीएम रमन सिंह के द्वारा प्रस्तुत बजट को  लोक लुभावन बजट कहा जा रहा है। जिसमे सभी वर्गों को थोड़ी राहत देने की कोशिश की गयी है लेकिन इस बार भी सरकार का पूरा ध्यान किसान और खेती की तरफ ज्यादा है। 

web team IBC24

 

Trending News

Related News