IBC-24

छगः विद्युत विभाग की लापरवाही से मातम में बदली शादी की खुशियां 

Reported By: Aman Verma, Edited By: Aman Verma

Published on 10 Feb 2018 05:45 PM, Updated On 10 Feb 2018 05:45 PM

विद्युत विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते जिस घर में शादी की खुशियां गुंजना था, वहां आज मातम पसरा हुआ है। मामला फिंगेश्वर विकासखंड के ग्राम कुंडेल का है। यहां के एक परिवार के युवक का विवाह रायपुर की रहने वाली तुलसी के साथ हो रहा था। विवाह में शामिल होने दूल्हे की बड़ी बहन जामुन बाई भी अपने पति और दो बच्चों के साथ आई हुई थी।

छत्तीसगढ़ के इस गांव ने किया विधानसभा चुनावों के बहिष्कार का ऐलान

शुक्रवार को बारात वापस लौटी थी और शाम को धरमटीका का कार्यक्रम होने वाला था। इसके पूर्व दोपहर ढाई बजे पारिवारिक रिश्तेदारों को खाना खिलाने का कार्यक्रम चल रहा था। इसी बीच जामुन बाई ने विवाह के लिए लगाये गए पंडाल के समीप रखे लोहे के खम्बे को जैसे ही उठाकर दूसरी जगह जगह रखने के लिए उठाया, खम्बे का ऊपरी सिरा ऊपर लटक रहे 11 के.व्ही. के तार को छू गया, जिससे जामुन करंट में चिपक गई और कुछ ही देर में उसका खून सूखने के कारण उसकी मौत हो गई। जैसे ही यह बात लोगों को मालूम हुई, पूरे घर में कोहराम मच गया और देखते ही देखते शादी की खुशी मातम में बदल गई। जामुन के दूल्हे भाई ने बताया कि उनके घर के बेहद ऊपर से 11 के.व्ही. की लाइन गुजरी है, इसे ऊपर करने वह विद्युत विभाग के अधिकारी को कई बार मौखिक रूप से कह चुका है। विवाह के पूर्व भी उसने जाकर कहा था, लेकिन ध्यान नहीं दिया गया और जिसके चलते उसकी बहन की मौत हो गई।

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य के लिए बजट में रहा ये खास......

इस सम्बन्ध में जब विद्युत विभाग के जिम्मेदार अधिकारी से पूछा गया, तो वे अपनी सफाई पेश करने लगे। अगर देखा जाय तो जामुन की मौत के पीछे विभागीय लापरवाही ही दिखाई देती है, क्योंकि केवल पीडित के घर की ही नहीं बल्कि लगभग पूरे गाँव में 11 के.व्ही. की लाइन मकानों को छूती हुई गुजरी है, जिस ओर विद्युत विभाग का कोई ध्यान नहीं है। लगता है कि विभाग को किसी बड़े हादसे का इंतेजार है। ग्रामीणों ने बताया कि पिछले वर्ष इसी तरह करंट की चपेट में आने से कई मवेशियों की मौत हो गई थी, बावजूद इसके विद्युत विभाग ने ध्यान नहीं दिया।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : CG : Wedding ceremony turns into tragedy due to electricity department negligence

ibc-24