News

जीएसटी, नोटबंदी पर CM के क्षेत्र में खुदकुशी, कांग्रेस का भाजपा पर बड़ा हमला

Last Modified - February 13, 2018, 6:15 pm

रायपुर। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के चुनाव क्षेत्र राजनांदगांव में कारोबारी महावीर चौरड़िया ने ट्रेन के सामने आकर आत्महत्या कर ली। इस आत्मघाती कदम से ऐन पहले महावीर चौरड़िया ने मोबाइल पर अपना सुसाइड मैसेज रिकॉर्ड कर सोशल मीडिया पर अपलोड किया था, जो देखते ही देखते वायरल हो गया। महावीर चौरड़िया ने इस मैसेज में जीएसटी और नोटबंदी के बाद मार्केट की खराब हालत से अपनी तंगहाली का जिक्र किया है। उन्होंने अपने इस आखिरी मैसेज में कहा है कि इसी तंगहाली के कारण आत्महत्या करने का फैसला लिया है।    

ये भी पढ़ें- राजनांदगांव में कारोबारी की हत्या, सुसाइड मैसेज में जीएसटी, नोटबंदी को जिम्मेदार कहा

छत्तीसगढ़ में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं और कारोबारी की आत्महत्या मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र में हुई है। इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री के बेटे और भाजपा सांसद अभिषेक सिंह भी राजनांदगांव से ही सांसद हैं। ऐसे में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने भाजपा के खिलाफ जबर्दस्त घेराबंदी शुरू कर दी है। कांग्रेस नोटबंदी और जीएसटी को ठीक से लागू नहीं करने को लेकर पहले से हमलावर है, अब कारोबारी के सुसाइड मैसेज में नोटबंदी और जीएसटी को जिम्मेदार ठहराने की बात सामने आने के बाद उसने और आक्रामक रुख अपना लिया है। छत्तीसगढ़ विधानसभा में विपक्ष के नेता टी एस सिंहदेव ने भाजपा के खिलाफ तीखा हमला बोला। उन्होंने कहा कि भाजपा के हाथ खून से सने हैं।

 

छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने एक के बाद एक ट्वीट कर कहा कि नोटबंदी और जीएसटी के कारण लोग जान गंवा रहे हैं और मुख्यमंत्री के चुनाव क्षेत्र में खुदकुशी हुई है, जिसपर भाजपा को चिंतन करने की जरूरत है।

देखते-देखते मंगलवार को ट्विटर पर हैशटैग जीएसटीकिल्डमहावीर #GSTKilledMahavir टॉप ट्रेंड करने लगा। प्रदेश कांग्रेस के साथ-साथ अलग-अलग यूजर्स ने भी इसी हैशटैग पर कारोबारी महावीर चौरड़िया की आत्महत्या को लेकर जीएसटी और नोटबंदी की नीति पर भाजपा को घेरा।

छत्तीसगढ़ के बाद मध्य प्रदेश कांग्रेस और कांग्रेस नेताओं ने भी कारोबारी महावीर की आत्महत्या के लिए बीजेपी पर हमला बोल दिया।

पुलिस हालांकि पूरे मामले की जांच कर रही है और शुरुआती तफ्तीश में ये सामने आया है कि ब्रोकर का काम करने वाले युवा कारोबारी महावीर के जरिये कुछ बड़े कारोबारियों ने बाजार में निवेश कर रखा था, ये रकम करोड़ों में थी, नोटबंदी और जीएसटी के कारण बदले हुए आर्थिक माहौल में महावीर ये रकम नहीं निकाल पा रहे थे और देनदार उनपर लगातार दबाव बना रहे थे। इसी परेशानी के कारण उन्होंने खुदकुशी कर ली।

वेब डेस्क, IBC24

Trending News

Related News