News

देश में लगातार चल रहे प्राकृतिक आपदा पर राज्य सरकार दे मुआवजा: अजीत जोगी

Created at - February 14, 2018, 5:40 pm
Modified at - February 14, 2018, 5:40 pm

रायपुर। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के संस्थापक अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी ने आज कहा कि प्रदेश में एक सप्ताह से हो रहे ओलावृष्टि, आंधी, तूफान व लगातार बारिश के कारण प्रदेश के किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। ऐसी स्थिति में कर्ज से दबा प्रदेश का किसान कहीं आत्मघाती कदम पुनः न उठा ले, इसकी जवाबदारी राज्य शासन की है, अतः डा. रमन सिंह तत्काल किसानों के प्रति सहानुभूति रखते हुए तत्काल केबिनेट की बैठक बुलाकर निर्णय लें एवं प्रदेश के आला अधिकारियों की टीम द्वारा खेत से खेत का मूल्यांकन कर किसानों को तत्काल मुआवजा की घोषणा कर अपना नैतिक कर्तव्य निभायें.

ये भी पढ़े - नाबालिग युवती से पहले हुआ छेड़छाड़ फिर हुआ उसका मुंडन

अजीत जोगी ने कहा कि प्रदेश का किसान अभी रबी फसल का चांवल, गेहूं, चना, तिवरा सहित आम व सब्जी का फसल अपने खेतों में लगाया है किन्तु लगातार चल रहे प्राकृतिक आपदा के कारण उसकी फसल को नुकसान पहुंचा है। एक ओर जहां आम के फसल में बौर झड़ गये है जिसके कारण उसका उत्पादन नहीं होगा वहीं अन्य सभी फसल में कीड़े लगने के कारण फसल खराब हो जायेंगे।

ये भी पढ़े - जोगी के राजनांदगांव से चुनाव लड़ने पर अब धरमलाल कौशिक ने किया कटाक्ष

अजीत जोगी ने आश्चर्य व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह की किसानों के प्रति संवेदनहीनता की स्थिति यह है कि मुख्यमंत्री के गृह जिला कवर्धा, निर्वाचन जिला राजनांदगांव सहित उसके सीमावर्ती अन्य जिला में ओलावृष्टि के कारण मानों सफेद चादर पूरे क्षेत्र में बीछ गयी थी। 14 वर्ष से प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे डा. रमन सिंह को यह ज्ञान होना चाहिए कि ओलावृष्टि से फसल का समूल विनाश हो जाता है उसके बाद भी मुख्यमंत्री द्वारा नुकसान का जायजा लेने की अपेक्षा चुपचाप शांत बैठे  रहना किसानों के प्रति उनकी संवेदनहीनता का उदाहरण है। जबकि मुख्यमंत्री को भी यह ज्ञात है कि प्रदेश के लगभग 1400 किसानों की फसल खराब होने व कर्ज न चुका पाने के शासन के कुशासन के कारण आत्महत्या की है। उसमें भी अधिकातर किसान मुख्यमंत्री के गृह व निर्वाचन जिले राजनांदगांव के हैं।

ये भी पढ़े - मोदी के मन की बात सुनने शिक्षकों को मिला आदेश

 इसके साथ ही अजीत जोगी ने राज्य शासन से मांग की है कि तत्काल किसानों को हो रहे नुकसान को देखते हुए राज्य मंत्रीमंडल की बैठक बुलाकर सरकार राहत दने व किसानों के कर्ज माफ की घोषणा करें, साथ ही आला अधिकारियों को निर्देश दें कि वे स्वयं यह सुनिश्चित करें कि नुकसाल का आंकलन खेत से खेत के आधार पर किया जाये ताकि वास्तविक नुकसान का आंकलन हो सके। जोगी ने कहा कि सरकार किसानों के प्रति अपनी जवाबदेही निभाये अन्यथा वे स्वयं जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के कार्यकर्ताओं के साथ किसानों के हित के लिये किसी भी स्तर तक आन्दोलन करने बाध्य होंगे.

  वेब टीम IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News