News

छत्तीसगढ़ में हेवी मेटल युक्त पानी से 103 मौत, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का नोटिस

Last Modified - February 16, 2018, 12:52 pm

गरियाबंद। राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने गरियाबंद जिले के सुपेबेडा में हेवी मेटल युक्त पानी से हुई दर्जनों मौत के बाद केंद्र एवं छत्तीसगढ़ सरकार को नोटिस जारी करते हुए उन क्षेत्रों के पानी में ऑर्गेनिक व फ्लोराइड के खतरनाक स्तर पर पहुंचने से होने वाली गुरदे की बीमारी से मरीजों की बढ़ती संख्या को लेकर चिंता व्यक्त करते हुए केंद्र और छत्तीसगढ़ सरकार को नोटिस देते हुए 4 सप्ताह के अंदर जवाब मांगा है उल्लेखनीय है कि एक सप्ताह पूर्व ही IBC24 ने सुपेबेड़ा के प्रकरण को प्राथमिकता से उठाते हुए आमजनों को इसकी गंभीरता का एहसास दिलवाया था इस नोटिस के बाद अब जिले के लोगों को लगने लगा है कि सुपेबेड़ा के लोगों को राहत जल्द से जल्द मिलेगी इसे लेकर कुछ जनप्रतिनिधियों से चर्चा की गई।

रायपुर गोलबाजार में फिर लगी आग, बीते साल से अब तक 5 बड़ी घटनाएं 

बीते दिनों इस मुद्दे को आईबीसी 24 ने गंभीरता से उठाते हुए सुपेबेड़ा के जागरुक लोगों को बुलाकर राज्य शासन के प्रतिनिधि और विधायक के समक्ष इस पर गंभीर चर्चा की थी जिस पर राष्ट्रीय आयोग ने सज्ञान लेते हुए कहा है कि गरियाबंद जिले के सुपेबेडा में दर्जनों लोगों की मौत हुई है जबकि ग्रामीणों का दावा है कि दूषित जल के कारण अब तक 103 लोगों की मौत हो चुकी है 225 लोग गुर्दा रोग से ग्रस्त हैं इस विषय पर आयोग ने केंद्रीय पेयजल व स्वच्छता मंत्रालय के सचिव व राज्य सरकार के सचिव से पूछा है इस समस्या से निपटने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं आयोग ने कहा है यदि मीडिया में आ रही रिपोर्ट सही है तो यह मानवाधिकार के उल्लंघन का गंभीर मामला बनता है इस नोटिस के बाद अब सुपेबेड़ा के लोगों को यह लगने लगा है कि कुछ राहत अब केंद्र और राज्य सरकार से उन्हें प्राप्त होगी।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News