News

रेप के दो आरोपियों को भीड़ ने थाने से खींचकर हत्या की, सड़क पर फेंकी लाश

Last Modified - February 20, 2018, 12:02 pm

बलात्कार और यौन शोषण के मामले पूरे देश में बढ़ते जा रहे हैं और साथ ही बढ़ता जा रहा है ऐसे मामलों को लेकर लोगों का गुस्सा। आए दिन छोटी-छोटी बच्चियों से लेकर अधेड़ महिलाओं तक के साथ होने वाली यौन हिंसा, रेप और गैंगरेप के खिलाफ आम लोगों का गुस्सा अब सब्र से बाहर होने लगा है। हम जो ख़बर आपको बताने जा रहे हैं, वो इसी गुस्से की ख़बर है, जिसने खूनी रुख अख्तियार कर लिया और कानून हाथ में लेकर दो आरोपियों की सरेआम हत्या कर दी। मामला अरुणाचल प्रदेश के तेजु शहर का है।

ये भी पढ़ें- सड़क हादसे का ये वीडियो देखकर आपका भगवान पर बढ़ जाएगा भरोसा

  

पांच साल की एक मासूम बच्ची के साथ बलात्कार के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी, जिससे लोगों में काफी आक्रोश था। 12 फरवरी को बच्ची को अगवा किया गया था, जिसके 5 दिन बाद नग्न स्थिति में धड़ और सिर कटा शव एक चाय बगान से बरामद किया था। रविवार को पुलिस ने इसी मामले में दो संदिग्धों को गिरफ्तार किया था। 30 साल के संजय सोबोर और 25 साल के जगदीश लोहर में से एक पर गुनाह का और दूसरे पर गुनाह में मदद करने का आरोप लगा था। पुलिस के मुताबिक दोनों में से एक संदिग्ध ने पूछताछ में अपना गुनाह कबूल भी कर लिया था। जैसे ही दोनों आरोपियों के पकड़े जाने और थाने के लॉकअप में होने की ख़बर फैली, देखते-देखते बड़ी संख्या में लोग वहां जुए आए। जब तक पुलिस कुछ समझ पाती, भीड़ ने थाने पर हमला कर दिया और दोनों संदिग्धों को बाहर घसीट लिया। इसके बाद उनकी बुरी तरह पिटाई की जाने लगी और तब तक मारा-पीटा जाता रहा, जब तक कि उनकी मौत नहीं हो गई। दोनों को जान से मारने के बाद भीड़ एक जुलूस की शक्ल में उनकी लाश लेकर मार्केट की ओर गई और बीच बाजार उनके शव को फेंक दिया।

ये भी पढ़ें- पंजाब नेशनल बैंक ने मेरा ब्रांड और कारोबार बर्बाद किया- नीरव मोदी

इस घटना के बाद पुलिस ने अज्ञात हमलावरों के खिलाफ केस दर्ज किया है, लेकिन खबर लिखे जाने तक किसी की भी गिरफ्तारी की कोई सूचना नहीं है। मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने पूरे घटनाक्रम की जांच के आदेश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि बच्ची के साथ बलात्कार और हत्या दुर्भाग्यपूर्ण है, लेकिन कानून हाथ में लेने की इजाजत किसी को भी नहीं दी जा सकती। पुलिस के आला अफसरों ने थाने पर हमला करने, लॉकअप से आरोपियों को छुड़ाने और उनकी हत्या करने को गंभीरता से लेते हुए तीन पुलिसकर्मियों को बर्खास्त कर दिया है। ज़िले के पुलिस अधीक्षक का भी तबादला कर दिया गया है। 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News