News

राज ठाकरे ने शरद पवार का लिया इंटरव्यू, पीएम मोदी पर सवाल-जवाब

Created at - February 22, 2018, 11:36 am
Modified at - February 22, 2018, 12:16 pm

पुणे। ये एक अनोखा आयोजन था, जिसमें महाराष्ट्र की राजनीति के दो बिल्कुल विपरीत ध्रुव एक-दूसरे के साथ न सिर्फ बैठे थे, बल्कि सवाल-जवाब भी कर रहे थे। 11 साल बाद ये पहला मौका था जब एनसीपी प्रमुख शरद पवार और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना प्रमुख राज ठाकरे एक कार्यक्रम में थे। इससे भी खास बात ये कि शरद पवार को इस कार्यक्रम में आने का न्यौता राज ठाकरे ने ही दिया था। ये आयोजन एक अनोखे इंटरव्यू को लेकर था, जिसमें इंटरव्यू देने के लिए शरद पवार बुलाए गए थे, सवाल पूछ रहे थे राज ठाकरे और इस आयोजन को देख रहे थे करीब पांच हजार लोग।

देखें तस्वीर- 

 

 

राज ठाकरे ने संसद में भूतपूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू को लेकर दिए गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बयान पर शरद पवार से प्रतिक्रिया पूछी। इसके जवाब में पूर्व मंत्री पवार ने कहा कि आलोचनात्मक राजनीति चलती रहती है, लेकिन इस बयान को स्वीकार नहीं किया जा सकता कि देश के विकास में या लोकतंत्र के सुदृढ़ीकरण में नेहरू का कोई योगदान नहीं था। पवार ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का जिक्र करते हुए कहा कि वे वैचारिक मतभेदों के बावजूद सभी का सम्मान किया करते थे। पवार ने महाराष्ट्र के दिग्गज नेता यशवंतराव चव्हाण को याद करते हुए कहा कि उनका मानना था कि भारत को मजबूत लोकतांत्रिक देश बनाने में पंडित नेहरू की बड़ी भूमिका थी।

देखें तस्वीर- भीषण सड़क हादसे में भाजपा विधायक की मौत, पीएम औऱ सीएम ने जताया शोक

शरद पवार ने जब यशवंतराव चव्हाण को लेकर ये कहा कि उस दौर में महाराष्ट्र के नेता देश को सबसे ऊपर रखते थे, अब ऐसा नहीं होता। इस पर राज ठाकरे ने उनसे सवाल किया कि देश के दूसरे राज्यों के नेता ऐसा क्यों नहीं करते? इस सवाल पर पवार का कहना था कि क्षेत्रवाद को राष्ट्र से ऊपर रखने के नजरिये के कारण महाराष्ट्र को नुकसान भी हुआ है, इसकी कीमत चुकानी पड़ी है। मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने शरद पवार से पूछा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत आने वाले विदेशी मेहमानों को देश के किसी दूसरे राज्य में क्यों नहीं ले जाते, वे सभी को गुजरात ही क्यों ले जाते हैं? इस सवाल पर पवार ने जवाब दिया कि अहमदाबाद और गुजरात के लिए पीएम मोदी का गर्व होना जरूरी है, लेकिन जब कोई राष्ट्र का नेता बनता है तो उसके लिए देश सबसे ऊपर होना चाहिए। 

ये भी पढ़ें- रायपुर से जुड़े रोटोमैक घोटाला मामले के तार, बागड़िया ब्रदर्स पर ED का छापा

इस इंटरव्यू से ज्यादा चर्चा इस बात को लेकर हो रही है कि क्या महाराष्ट्र की राजनीति में कोई नई खिचड़ी पक रही है? शिवसेना और बीजेपी हालांकि मिलकर गठबंधन सरकार चला रही हैं, लेकिन इन दोनों दलों के बीच दूरियां गहराती जा रही हैं। दूसरी ओर, शिवसेना और एमएनएस में भी बीच-बीच में मेलमिलाप की ख़बरों के बावजूद दूरियां मिटती नहीं दिख रहीं। ऐसे में राज ठाकरे और शरद पवार का 11 साल बाद इस दोस्ताना माहौल में मंच साझा करने को लेकर अटकलें भी लग रही हैं।

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News