News

मुंगावली, कोलारस में चुनाव प्रचार थमा, क्या ज्योतिरादित्य का तिलिस्म तोड़ पाएंगे शिवराज? 

Last Modified - February 22, 2018, 5:13 pm

मध्य प्रदेश की मुंगावली और कोलारस विधानसभा सीटों पर 24 फरवरी को होने वाले उपचुनावों के लिए प्रचार का शोर गुरुवार शाम पांच बजे थम चुका है। पिछले कुछ दिनों से मध्यप्रदेश की राजनीति का अखाड़ा बनी हुई इन विधानसभा सीटों के उपचुनावों को कांग्रेस और भाजपा दोनों ने अपनी प्रतिष्ठा का मुद्दा बना रखा है। शनिवार को दोनों विधानसभा के लिए वोट पड़ने वाले हैं, जिसमें उम्मीदवारों की जीत-हार से भी ज्यादा इन्हें जिताने-हराने में लगे चेहरों की साख दाव पर है। एक ओर खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान हैं तो दूसरी ओर वह चेहरा है जिसे मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाकर पेश करने की मांग मध्यप्रदेश कांग्रेस के कई दिग्गज कर चुके है। ये क्षेत्र सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया का है और पिछले लंबे समय से दोंनों सीटें कांग्रेस के पास ही रही है, जाहिर है कि कांग्रेस पर दबाव ज्यादा है क्योंकि कांग्रेस इस चुनावी साल में प्रदेश में बनी अपनी मजबूत स्थिति को खोना नहीं चाहती, साथ ही जीत दर्ज कर सिंधिया के चेहरे को और भी बड़ा बनाना चाहती है। 

देखें तस्वीर-

वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान पर अपने चेहरे की चमक बरकरार रखने की जिम्मेदारी है और अगर ज्योतिरादित्य के गढ़ में उनके नेतृत्व में भाजपा सेंधमारी में सफल हो जाती है तो चुनावी साल में सत्तारुढ़ दल के लिए ये बहुत बड़ा बोनस हो सकता है।

देखें तस्वीर-

भाजपा इन उपचुनावों में पूरे जोर-शोर के साथ उतरी है और इन दो सीटों पर जीत दर्ज करना उसका पुराना सपना भी रहा है। हालांकि इस बार चुनौती बड़ी है और हालात कुछ अलग। पहले अटेर और फिर चित्रकूट उपचुनावों में हार का मुंह देख चुकी भाजपा के सामने इन सीटों पर जीत दर्ज कर ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रदेश में बढ़ते कद को कम करने का एक अच्छा मौका है। यही कारण रहा कि दोनों पार्टियों ने प्रचार में अपने सभी दिग्गज नेताओं को झोंक दिया। 

देखें तस्वीर-

कांग्रेस की ओर से प्रदेश अध्यक्ष अरूण यादव, छिंदवाड़ा से कांग्रेस सांसद और पार्टी महासचिव कमलनाथ और सबसे ज्यादा ज्योतिरादित्य सिंघिया ने प्रचार की जिम्मेदारी संभाली। वहीं भाजपा से खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंद कुमार चौहान, जिले की प्रभारी मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया ने भाजपा को जीत दिलाने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया। इसके अलावा प्रदेश भाजपा के लगभग सभी मंत्री और बडे़ नेता राजनीति के इस यज्ञ में अपनी आहुति दे चुके हैं।

देखें तस्वीर-

 

इस चुनावी घमासान के बीच ऐसे कई मौके आए जब चुनावी रंग तस्वीरों में सिमट कर रह गया जिसे हमने आपके लिए सहेजा है। आइए देखते है ऐसी ही कुछ यादागार तस्वीरें जिन्होंने दोनों ही विधानसभा सीटों पर हुए प्रचार और जनता की आवाज को खुद में सहेज रखा है। 

 

 

 

अमन वर्मा, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News