News

आर्मी चीफ का AIUDF पर बड़ा बयान तो बदरुद्दीन बोले-जो घुसपैठ करे उसे गोली मार दें

Last Modified - February 22, 2018, 7:50 pm

नई दिल्ली। गुरुवार को सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत का बयान और उनके बयान पर एआईयूडीएफ के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल की प्रेस कांफ्रेंस पूरे दिन सुर्खियों में छाई रही। सेना प्रमुख ने असम में एआईयूडीएफ की चर्चा करते हुए कहा था कि राज्य में इस पार्टी का उभार 1980 के दशक से भारतीय जनता पार्टी के विकास में जो उभार देखा गया, उससे भी ज्यादा तेज़ रहा है। 

सेना प्रमुख ने ये बात पूर्वोत्तर में बंगलादेशी नागरिकों की घुसपैठ का जिक्र करते हुए कही। उन्होंने कहा कि ये प्रवासन हमारे पश्चिमी पड़ोसियों की ओर से योजनाबद्ध तरीके से चलाया जा रहा है, जिसपर नियंत्रण सुनिश्चित किया जाएगा। जनरल बिपिन रावत ने कहा कि बांग्लादेश से भारत में लोगों के आने के पीछे दो मुख्य कारण हैं, पहला ये कि उस देश में बाढ़ के कारण रिहायशी जगह की काफी कमी रहती है और दूसरा ये कि इस क्षेत्र पर नजर टिकाए हमारे पश्चिमी पड़ोसी को उत्तरी पड़ोसी की मदद मिल रही है।

सेना प्रमुख के इस बयान के बाद एआईयूडीएफ ने एक प्रेस कांफ्रेंस बुलाई, जिसे बदरुद्दीन अजमल ने संबोधित किया। बदरुद्दीन ने कहा कि ये एक राजनीतिक बयान है और देश के सेना प्रमुख को देश की सुरक्षा पर बोलना चाहिए, राजनीति पर नहीं। उन्होंने कहा कि बीजेपी का उभार इतनी तेज़ी से हुआ तो उसपर भी सवाल होने चाहिए। बदरुद्दीन ने दावा किया कि एआईयूडीएफ मुस्लिम पार्टी नहीं है, बल्कि वो हमेशा से 25-30 हिंदु उम्मीदवारों को टिकट देती रही है और इनमें से कई जीतकर भी आते रहे हैं। बदरुद्दीन अजमल ने कहा कि अगर सेना प्रमुख कह रहे हैं कि असम की भौगोलिक स्थिति बदल रही है तो ये देखना सरकार का काम है। उन्होंने कहा कि अगर कोई हमारी सीमा में घुसपैठ करता है तो हम अकेली पार्टी हैं, जो ऐलान करती है कि उसे गोली मार दें।

बदरुद्दीन अजमल ने कहा कि वो अपना पक्ष राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और गृहमंत्री से मिलकर रखेंगे और इसके लिए वक्त मांगा है।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News