News

तीन ऐसे किस्मत वाले, जिन्हें छूकर निकल गई मौत, देखें वीडियो

Last Modified - February 23, 2018, 12:40 pm

जिंदगी और मौत के बीच एक बेहद बारीक सा फासला होता है और ये किस्मत पर निर्भर करता है कि किसी हादसे का अंजाम क्या होता है? कई बार हादसों की चपेट में आकर कोई बेमौत मारा जाता है तो कई बार बिल्कुल करीब से छूते हुई निकल जाती है मौत। हम आपको दिखाने जा रहे हैं, ऐसी ही तीन घटनाएं, जिनके वीडियो देखकर आप कह उठेंगे, जाको राखे साइयां मार सके ना कोय। 

ये भी पढ़ें- भाजपा के बुजुर्ग सांसद मुरली मनोहर जोशी का ऐसा गुस्सा देखा था पहले ?

सबसे पहले देखिए, कन्नौज की ये खबर। एक आदमी कार चलाना सीख रहा है। वो अपनी गाड़ी में पेट्रोल भराने पेट्रोल पंप पर कार चलाता हुआ आता है, लेकिन स्टेयरिंग पर नियंत्रण नहीं रख पाता और वहां पहले से खड़े व्यक्ति को अपनी कार की चपेट में लेता हुआ, आगे बढ़ जाता है। स्टेयरिंग पूरी घूम जाती है, कार की चपेट में आया व्यक्ति नीचे गिर जाता है। संयोग से कार चला रहा व्यक्ति किसी तरह ब्रेक लगाने में कामयाब हो जाता है। ये एक बड़ा हादसा हो सकता था, अगर कार पेट्रोल पंप की मशीन से जा टकराती तो भयानक आग लग सकती थी। दूसरी ओर, अगर ब्रेक न लग पाता तो नीचे गिरा आदमी कार से बुरी तरह कुचल सकता था, लेकिन किस्मत ने इस हादसे को टाल दिया। कार की चपेट में आए व्यक्ति को भी ज्यादा चोट नहीं आई है और वो स्वस्थ है।   

अभी जो वीडियो आपने देखा, उसमें तो कार की रफ्तार कम होने से बड़ा हादसा टल गया, लेकिन अब जो वीडियो आप देखने जा रहे हैं, उसे देखकर तो आपको यकीन ही नहीं होगा कि ऐसा भी हो सकता है। ये गुजरात के गोधरा का वीडियो है। हलोल-पावागढ़ हाईवे पर एक राहगीर खड़ा है। तभी एक डंपर के अगले हिस्से से उसे जोरदार टक्कर लगती है। टक्कर से टकराने के कारण लगे झटके से राहगीर जमीन पर जा गिरता है, लेकिन उसके बिल्कुल बगल से डंपर निकल जाती है और वो डंपर के पहिये के नीचे आने से बाल-बाल बच जाता है। 

और ये तो बिल्कुल चमत्कार ही है। जी हां, मुंबई सेंट्रल स्टेशन का ये वीडियो है। प्लेटफार्म नंबर 4 से ट्रेन खुलती है तभी एक महिला यात्री एक कोच की पायदान से नीचे गिर जाती है। महिला यात्री किसी भी पल ट्रेन की पायदान और प्लेटफार्म के बीच के हिस्से में फंस सकती थी, पटरी की दिशा में नीचे गिर सकती थी, लेकिन तभी रेलवे प्रोटेक्शन फोर्स के जवानों की नजर उसपर पड़ती है और वो तूफानी रफ्तार से दौड़ लगाता हुआ मदद को जा पहुंचते हैं। इसी बीच, कुछ और यात्री भी दौड़कर महिला यात्री के पास पहुंचते हैं। ड्राइवर भी सूझ-बूझ दिखाता है और ट्रेन की रफ्तार बिल्कुल घटा देता है। खुशकिस्मती से महिला को सुरक्षित बचा लिया जाता है।

अब इन तीन अलग-अलग हादसों में किसी की जान तो नहीं गई, लेकिन किस्मत हर बार साथ नहीं देती, इसलिए सतर्कता ही बचाव है के मंत्र का हमेशा ख्याल रखना जरूरी है। सतर्कता हटी, दुर्घटना घटी की स्थिति कभी भी और किसी के भी साथ हो सकती है, इसलिए हमारी यही हिदायत है कि हर पल आंखें खुली रखें, जागरुक रहें, सुरक्षित रहें।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News