News

क्या प्रशांत किशोर फिर संभालेंगे नरेंद्र मोदी के चुनाव प्रचार की कमान, चर्चा तेज

Last Modified - February 26, 2018, 1:01 pm

पीके यानी प्रशांत किशोर एक बार फिर सुर्खियों में हैं। चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर को लेकर चल रही नई चर्चा ये है कि वो 2019 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चुनाव अभियान की कमान संभाल सकते हैं। इस चर्चा का आधार है हाल ही में उनकी पीएम मोदी से कथित तौर पर मुलाकात, बताया जाता है कि प्रधानमंत्री ने प्रशांत किशोर को खाने पर बुलाया था। इससे पहले, बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह से भी पीके की मुलाकात की खबरें थीं। हालांकि अभी तक न तो भारतीय जनता पार्टी कैंप और न ही प्रशांत किशोर कैंप से इस मुलाकात या मुलाकात को लेकर शुरू हुई अटकलों के बारे में कुछ कहा गया है, लेकिन बताया जा रहा है कि कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद सार्वजनिक रूप से इस बारे में जानकारी दी जा सकती है।

ये भी पढ़ें- मुस्लिम मोइन मेमन ने प्राचीन हनुमान मंदिर का जीर्णोद्धार कराया, कहा-मैं खुशकिस्मत

prashant kishor और prashant kishore हैशटैग पर कई वरिष्ठ पत्रकारों के साथ-साथ आम यूजर्स भी इस ख़बर को कंफर्म करने या जानकारी देने के लिए पोस्ट कर रहे हैं। प्रशांत किशोर 2012 में गुजरात विधानसभा चुनाव में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए काम कर चुके हैं। इसके बाद 2014 लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी के चुनावी रणनीतिकार के रूप में प्रशांत किशोर एक बड़ा नाम बनकर सामने आए। बताया जाता है कि इस चुनाव के बाद प्रशांत किशोर और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के बीच किसी मुद्दे को लेकर दूरियां बन गईं जिसके बाद पीके और बीजेपी का रिश्ता टूट गया। प्रशांत इसके बाद नीतीश कुमार के चुनाव रणनीतिकार बने और बिहार में बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को हराकर महागठबंधन की सरकार बनाने में बड़ी भूमिका निभाई। इस जीत से उत्साहित नीतीश ने पीके को कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया था, जो महागठबंधन सरकार गिरने और एनडीए सरकार बनने तक कायम रहा था।

ये भी पढ़ें- पहले से भी ज्यादा भ्रष्ट हुआ भारत, भ्रष्टाचार में 81वें नंबर पर

प्रशांत किशोर बीजेपी और जदयू के बाद कांग्रेस के साथ जुड़ गए थे, पंजाब विधानसभा चुनाव में कैप्टन अमरिंदर सिंह के लिए उन्होंने काम किया और वहां कांग्रेस सरकार भी बनी। बताया जाता है कि पिछले कुछ समय से अपने पिता की बीमारी को लेकर पीके पारिवारिक समस्या में उलझे हुए हैं। अब चर्चा उनके बीजेपी खेमे में वापसी की है, दूसरी ओर बीच-बीच में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से भी उनकी नजदीकी सुर्खियों में आती रही हैं। ऐसे में इंतजार करना होगा कर्नाटक विधानसभा चुनाव के नतीजों का, क्योंकि खबरों के मुताबिक उसी के बाद ये सामने आ पाएगा कि 2019 में नरेंद्र मोदी का साथ देंगे प्रशांत किशोर या राहुल गांधी के लिए बनाएंगे रणनीति?

 

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News