धारधमतरी News

शिक्षा अधिकारी का फरमान- शिक्षकों का होगा पुलिस वेरिफिकेशन, मचा बवाल

Last Modified - February 28, 2018, 9:25 am

धमतरी के जिला शिक्षा अधिकारी के एक तुगलकी फरमान से बवाल मचा गया है. डीईओ ने जिले के सभी स्कूलों के शिक्षकों और कर्मचारियों का पुलिस वेरिफिकेशन करने आदेश जारी किया है. शिक्षा अधिकारी के इस आदेश से शिक्षकों की नियुक्ति पर ही बड़ा सवाल खड़ा कर दिया है, कि क्या बिना पुलिस वेरिफिकेशन ही शिक्षकों की भर्ती कर दी गई थी ? शिक्षाकर्मी संघ ने फैसला किया है कि कोई भी शिक्षाकर्मी इस आदेश का पालन नहीं करेगा. 

 

 

ये भी पढ़ें- शिक्षाकर्मियों को सरकार से मिलेगी सौगात ? कमेटी की रिपोर्ट पर टिकी निगाहें

शिक्षाकर्मी मोर्चा के संचालक संजय शर्मा और प्रदेश मीडिया प्रभारी विवेक दुबे ने संयुक्त बयान जारी कर कहा है कि किसी भी शिक्षक को पुलिस वेरिफिकेशन, चरित्र सत्यापन और मेडिकल जांच के बाद ही नौकरी मिलती है, नौकरी पाने के बाद यदि उस पर किसी भी प्रकार का कोई मामला दर्ज होता है तो उसे तत्काल सेवा से निलंबित या बर्खास्त कर दिया जाता है जिसका सीधा सा मतलब है कि जो शिक्षक वर्तमान में सेवा में है उन पर किसी भी प्रकार का कोई आरोप दर्ज नहीं है इसके बाद भी जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा इस प्रकार का आदेश जारी करना समझ से परे है।

ये भी पढ़े- जांजगीर के जेल जाने वाले शिक्षाकर्मियों का सम्मान

शिक्षकों को विगत कई माह से वेतन प्राप्त नहीं हुआ है और वे अन्य कई प्रकार की समस्याओं से भी जूझ रहे हैं, अधिकारी उस पर ध्यान देने की बजाय बोर्ड एग्जाम से ठीक पहले इस प्रकार के आदेश जारी कर शिक्षकों/शिक्षाकर्मियों को परेशान कर रहे हैं जिसका हम विरोध करते हैं.

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News