भोपाल News

बावरिया के फरमान के बाद सोशल साइट पर बुजुर्ग नेता हो गए जवान

Created at - March 7, 2018, 1:06 pm
Modified at - March 7, 2018, 1:06 pm

जबलपुर। सियासत का ऊंट कब किस तरफ करवट लेले कोई नहीं जानता. लेकिन मध्यप्रदेश में कांग्रेस के सियाने नेता सियासत की ऊंट को अपने ही अंगने में बिठाने से बाज नहीं आ रहे हैं, वजह साफ है आलाकमान का वो निर्देश जिसमें 60 पार नेताओं को टिकट  न देने की बात हुई है, बस फिर क्या ता सीनियर लीडर कैसे हो गए यंग ये आप भी देखिए..

ये भी पढ़ें- एमपी कांग्रेस में 60 की उम्र पार कर चुके बुजुर्गों की खतरे में टिकट

  

जबलपुर में कांग्रेस के नए फार्मूले में जो नेता फिट बैठ रहे हैं उनमे पूर्व विधायक ठाकुर सोबरन सिंह, वारिष्ठ कांग्रेस नेता रामेश्वर नीखरा, पूर्व विधायक नरेश सराफ, चमन श्रीवास्तव, पूर्व ग्रामीण अध्यक्ष विष्णु शंकर पटेल, पीसीसी के उपाध्यक्ष एवं पूर्व विधायक लखन घंघौरिया, बाबूशंकर सोनकर और रमेश चौधरी सहित कई ऐसे नेता हैं जिनके चुनाव लड़ने के सपने पर पार्टी ने पानी फेर दिया है। हालांकि पार्टी का मानना है कि ऐसे फैसले से युवाओं को ज्यादा मौका मिलेगा जिससे पार्टी को फायदा होगा। 

 

वेब डेस्क, IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News