News

राज्य सरकार की पहल पर 21 केटेगरी के दिव्यांगों का बनेंगे सर्टिफिकेट

Created at - March 9, 2018, 8:17 pm
Modified at - March 9, 2018, 8:17 pm

राज्य सरकार की पहल पर प्रदेश के दिव्यांगों को समाज की मुख्यधारा में लाने के लिए बेहतर प्रयास हो रहे है। इसके तहत 21 कैटेगरी के दिव्यांगांे को जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी दिव्यांग सर्टिफिकेट प्रदान करेंगे। साथ ही दिव्यांगता सर्टिफिकेट के यू.डी.आई.डी.कार्ड भी जारी किए जाएंगे।

        स्वास्थ्य विभाग एवं  समाज कल्याण विभाग की संयुक्त बैठक में अधिकारियों ने बताया कि केन्द्र सरकार के निर्देश पर पद्रेश में दिव्यांगता केटेगरी में 14 और केटेगरी को शामिल किया है। पहले सात दिव्यांगता की केटेगरी थे अब 21 हो गये हैं। इसे लागू करने के लिये आज यहां एक निजी होटल में जिला चिकित्सा अधिकारियों और समाज कल्याण के जिलाधिकारियों  की आयोजित की गई। अधिकारियो ने बताया कि सिकल सेल, थैलीसिमिया तथा मानसिक रूग्णता के बारे में कौन से स्तर पर दिव्यांगता होनी चाहिये का प्रतिशत किस प्रकार निकालना है इसके लिये विषय-विशेषज्ञों के द्वारा जानकारी प्रदान की गई। दिव्यांगता केटेगरी के प्रमाण पत्र जारी करने के लिये डिजीज वाईस 9 चिकित्सक विशेषज्ञों की आवश्यकता होगी। प्रदेश में 22 हजार दिव्यांगता के सर्टिफिकेट अब तक जारी किये जा चुके हैं। डिसएबिलिटी के कम करने के लिये डीआईसी व डिस्ट्रीक्ट डिसएबिलिटी रिहेबिटेशन सेंटर के माध्यम से उपचार किये जाने पर जोर दिया गया । 

 बैठक में अधिकारियों ने बताया कि दिव्यांगता सर्टिफिकेट के लिये एप्लीकेशन फॉर्म, निवास प्रमाण पत्र तथा दो फोटो के साथ जिला अस्पताल में जमा कर सकते हैं। निर्धारित तिथि में दिव्यांगता का निर्धारण चिकित्सा बोर्ड के द्वारा किया जायेगा। दिव्यांगता सर्टिफिकेट से अभ्यर्थी  शासन की योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं। 21 दिव्यांगता केटेगरी में प्रमस्तिष्क घात, कुष्ठ रोग, बौनापन, अम्ल आक्रमण पीड़ित और बहुदुष्पोषण, अंधता और निम्न दृष्टि, बधिर, अभिवाक और भाषा दिव्यांगता सहित बौद्धिक दिव्यांगता, मानसिक रूग्णता, चिरकालिक तंत्रिका दशायें, हेमोफिलिया, थेलेसिमिया, सिक्कल कोशिका रोग तथा बहु दिव्यांगता आदि शामिल है। बैठक में प्रमुख सचिव स्वास्थ्य श्री सुब्रत साहू, विशेष सचिव समाज कल्याण श्री आर प्रसन्ना, संचालक स्वास्थ्य श्रीमती रानू साहू, संचालक समाज कल्याण डॉ. संजय अलंग, अतिरिक्त परियोजना संचालक व नोडल अधिकारी सिकल सेल डॉ.एस.के.बिंझवार, महानिदेशक सिकल सेल संस्थान डॉ. अरविंद नेरल, विभागाध्यक्ष ब्लड बैंक मेडिकल कॉलेज रायपुर डॉ. रेणुका गाहिने सहित स्वास्थ्य विभाग ओर समाज कल्याण विभाग के अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित थे।

 

 

 

 

वेब टीम IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News