News

छत्तीसगढ़ के कलेक्टर ने राहगीरों से पहचान छिपा कर पूछा हाल-चाल

Created at - March 13, 2018, 6:06 pm
Modified at - March 13, 2018, 6:06 pm

नारायणपुर-अब वो समय लद गए जब कलेक्टर की लाल बत्ती की गाड़ी आकर रूकती थी और ग्रामीण अपने जिले के मुखिया को देखने के लिए गोल घेरा बना कर खड़े हो जाते थे। अब शायद इसका उल्टा नज़ारा देखने मिलता है कल नारायणपुर  के कलेक्टर टोपेश्वर वर्मा ने अपने आकाबेड़ा, नेड़नार दौरे के दौरान रास्ते में गाड़ी रूकवाकर मछली पकड़ती, लाख चुनती और राशन ले लेकर आ रही महिलाओं से मुलाकात की साथ ही  उनके गांव और परिजनों और उनकी काम के बारे में और उनके सुख-दुख के बारे में हाल-चाल पूछा तथा संक्षिप्त जानकारी ली।

ये भी पढ़े - जन सम्पर्क यात्रा की लहर चली ग्राम ग्राम शहर शहर केदार कश्यप मिले ग्रामीणों से

 कलेक्टर ने कुकड़ाझोर में अपनी पोती के साथ लाख चुनती बुजुर्ग महिला से उसका हाल-चाल जाना और पूछा की, वे क्या चुन रही हैं। बुजुर्ग महिला ने कमजोर आंखों को मिच-मिचाते हुए कहा कि वे पेड़ से गिरती हुई लाख चुन रही है। इस मौसम में पेड़ से लाख सूखकर, चटककर गिरती हैं। आदिवासी महिलायें अपनी रोजी-रोटी के लिए लाख चुनकर स्थानीय हाट-बाजार में बेचती हैं। 

ये भी पढ़े - जोगी कांग्रेस का फ़िल्मी अंदाज़ क्या हुआ तेरा वादा वो कसम झूठा इरादा से घेरा भाजपा को

इसी दौरान बीच रास्ते में गाड़ी रूकवाकर कलेक्टर वर्मा मछली पकड़ती हुई महिलाओं के पास पहुंचे। उन्होंने बातचीत की और कहा कि वे इतनी छोटी मछली पकड़कर रही है, क्या उनके लिए पर्याप्त भोजन होगा। साथ महिलाओं से पूछा कि क्या वे मछलीपालन के व्यावसाय करना चाहेंगी, तो वे उनके लिए डबरी निर्माण करा सकते हैं। महिलाओं ने कहा कि वे गांव वालों से पूछकर ही कुछ निर्णय लेंगी। उन्होंने कहा कि शासन-प्रशासन महिलाओं की हर दुख-तकलीफ को खत्म करने में अग्रसर है। उनकी खुशहाली के लिए बेहतर से बेहतर योजनाएं संचालित कर रहा है, वे इसका लाभ उठायें।

ये भी पढ़े - संस्कारों में प्रधानमंत्री मोदी से आगे निकले डॉ रमन

 

    कलेक्टर  टोपेश्वर वर्मा ने रास्ते में आकाबेड़ा से राशन लेकर लौटती महिलाओं से भी चर्चा की और उनके द्वारा लायी गयी सामग्री का अवलोकन भी किया। उनके पास उपलब्ध राशन कार्ड को भी देखा। एक महिला ने नाम पूछने पर अपना नाम प्रमिला बताया कलेक्टर ने उनसे उनके गांव के बारे में जानकारी ली और गांव की जरूरी सुविधाओं के बारे में जाना। डरी सहमी महिलाओं ने कलेक्टर को अपने गांव के संबंध में जानकारी से अवगत कराया। कलेक्टर ने अपने संक्षिप्त समय में शासन की लाभकारी योजनाओं की भी जानकारी देकर उनसे उम्मीद की कि वे इसका जरूर लाभ उठायें। 

web team IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News