रायपुर News

रायगढ़ के 5 विस सीटों पर रस्साकसी, मैदान में 4 पार्टी और 1 निर्दलीय

Last Modified - March 14, 2018, 5:51 pm

रायगढ़ क्षेत्र की पांच विधानसभा सीटों पर अबकी बार कांटे की टक्कर देखने को मिलेगी. क्योंकि जहां एक ओर बीजेपी और कांग्रेस अपने-अपने दावेदारों के साथ मैदान में होंगी. वहीं दूसरी ओर जनता कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के साथ निर्दलीय भी चुनावी गणित बिगाड़ने का काम करेंगे. रायगढ़ जिले की सबसे अहम समझी जाने वाली रायगढ़ विधानसभा सीट पर अभी बीजेपी काबिज है. लेकिन आगामी विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों का चयन करने में पार्टी के पसीने छूट रहे हैं. चाहे बीजेपी हो या कांगेस. दोनों ही पार्टियों में प्रत्याशियों को लेकर अभी से गहमागहमी बनने लगी है. ऐसे में नई पार्टियों के दखल से यहां मुकाबला और भी कड़ा होता जा रहा है.

ये भी पढ़ें- सबसे अमीर राज्यसभा प्रत्याशी, 4 हजार करोड़ से ज्यादा है इनकी संपत्ति

  

ये भी पढ़ें- दिव्यांग जानकी बाई गोंड जाएंगी टर्की, 1 लाख रूपए की मिली मदद

बीजेपी इस बार एंटी इंकमबेंसी के फैक्टर के कारण इस सीट पर इस बार बीजेपी नये चेहरे पर दांव लगाएगी । ये भी कयास लगाए जा रहे है कि टिकट की दौड़ में प्रबल रुप से शामिल पूर्व विधायक विजय अग्रवाल और बीजेपी के महामंत्री उमेश अग्रवाल टिकट नही मिलने पर निर्दलीय चुनाव लड़ सकते हैं । ऐसे में बीजेपी के लिए प्रत्याशी चयन करना काफी मुश्किल होगा.लेकिन बीजेपी ऐसी किसी भी बात से इनकार करते हुए जीत का दावा कर रही है. तो वहीं जनता कांग्रेस भी चुनावी समर में है। जनता कांग्रेस का कहना है कि बीजेपी और कांग्रेस से पब्लिक ऊब चुकी है. इसलिए इस बार हमारी जीत होगी..

  

इधर आम आदमी पार्टी ने पांचों विधानसभा सीट पर चुनाव लड़ने का मन बनाया है. जिसके बाद विरोधी पार्टियों में हलचल तेज हो गई है. पार्टी ने रायगढ़ के लिए सबसे बड़ा मुद्दा प्रदूषण को बनाया है. जनचेतना मंच के संयोजक राजेश त्रिपाठी को पार्टी टिकट दे सकती है. जो पहले भी निर्दलीय तौर पर चुनाव लड़ चुके हैं. आम आदमी पार्टी का कहना है कि इस बार परिस्थितियां बदली हुई हैं. लिहाजा पार्टी को जनसर्मथन जरूर मिलेगा.

 

ये भी पढ़ें- 'राज्यसभा के लिए कांग्रेस का 'साहू ट्रंप' नहीं आएगा काम, मुगालते में ना रहे कांग्रेस'

रायगढ़ में चुनाव जीतने  के लिए हर पार्टी को इस बार जोर आजमाइश करनी होगी. हर पार्टी के मुद्दे अलग होंगे. और कैंपेनिंग का तरीका भी. ऐसे में नई पार्टियों के आने से बीजेपी और कांग्रेस के लिए रायगढ़ का रण और भी टक्कर देने वाला हो गया. जहां एक ओर दोनों ही पार्टियों को भीतरघात से निपटना होगा. वहीं दूसरी ओर अपने वोट बैंक को दूसरे खेमे में जाने से बचाने के लिए मेहनत भी करनी होगी.

 

 

 

अविनाश पाठक IBC24 रायगढ़

Trending News

Related News