News

लोकायुक्त कार्रवाई में धन कुबेर निकला साढ़े ग्यारह हजार कमाने वाला प्रबंधक

Created at - April 17, 2018, 1:55 pm
Modified at - April 17, 2018, 1:55 pm

सागर। करीब साढ़े ग्यारह हजार रुपए प्रतिमाह वेतन पाने वाला सहकारी समिति प्रबंधक करोड़पति निकला, आय से अधिक संपत्ति के मामले में आई शिकायत के बाद सागर लोकायुक्त पुलिस ने प्रबंधक के सागर स्थित घर और गांव के मकान पर दबिश दी, एक साथ दो ठिकानों पर करीब 12 घंटे चली सघन कार्रवाई के दौरान लोकायुक्त को करोड़ों की प्रॉपर्टी के दस्तावेज, दर्जनों बैंक पासबुक, सोने-चांदी के जेवर और बीमा पॉलिसी मिली है।

यह भी पढ़ें - निर्माणाधीन बिल्डिंग का छज्जा गिरा,एक मजदूर की मौत, 3 घायल

सागर की राहतगढ़ ब्लॉक की बेरखेड़ी सेवा सहकारी समिति में बतौर प्रबंधक कार्यरत अशोक दुबे के खिलाफ कुछ समय पहले लोकायुक्त पुलिस को शिकायत मिली थी, शिकायत की जांच के बाद सोमवार सुबह करीब 5ः30 बजे लोकायुक्त की दो टीमों ने अशोक दुबे के मोती नगर थाने के पास राजीव नगर वार्ड स्थित आवास और गढ़ाकोटा के बसारी गांव स्थित आवास पर एक साथ छापामार कार्यवाही शुरु की, लोकायुक्त की टीम के साथ पुलिस बल चिकित्सीय एंबुलेंस भी मौके पर पहुंची, लोकायुक्त पुलिस को मिली शिकायत में यह बात निकलकर सामने आई थी कि अशोक दुबे ने कुछ समय पहले करोड़ों रुपए की जमीन खरीदी थी, शिकायतों की जांच कराए जाने के बाद सोमवार को छापामार कार्रवाई की गई, लोकायुक्त एसपी सुनील तिवारी ने बताया कि छापामार कार्रवाई के दौरान प्रारंभिक तौर पर प्रॉपर्टी की रजिस्ट्री है इनकी अनुमानित कीमत करीब डेढ़ करोड़ हो सकती है

यह भी पढ़ें - मंत्री गोपाल भार्गव के बयान पर बवाल, आरक्षण प्रतिभा का मजाक 

हालांकि राजस्व विभाग से इनका वेल्युशं कराया जायेगा, इसके अलावा 15 बीमा पॉलिसी, करीब 30 लाख का एक मकान, बसारी और मोहास गांव में कृषि भूमि, करीब 20 लाख कीमत के सोने चांदी के गहने मिले हैं, आज बैंक के लॉकर खोले जाएंगे, संबंधित बैंक खातों में कब कब कितना पैसा कहां से आया, किसने डाला, बैंक लाकरों की जानकारी भी निकाली जाएगी और समिति प्रबंधक पर कार्यवाही अभी जारी रहेगी, जानकारी के अनुसार समिति प्रबंधक अशोक दुबे ने सहकारी समिति में बतौर सेल्समैन 1986 में नौकरी शुरू की थी, उस समय 300 रूपये मासिक वेतन मिलता था, वर्तमान में करीब साढ़े ग्यारह हजार रूपये मासिक वेतन मिल रहा है, सेल्समेन बनने के एक साल बाद ही उन्हें सहायक समिति प्रबंधक बना दिया गया था, बेरखेड़ी गांव राहतगढ़ में ही शुरुआत से अभी तक दुबे पदस्थ हैं, सेवा में रहते हुए पिछले 31 सालों में ही उन्होंने यह सारी संपत्ति बनाई है।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News