News

जॉगिंग से पाए अच्छी सेहत 

Created at - April 20, 2018, 6:52 pm
Modified at - April 20, 2018, 6:52 pm

आज की दिनचर्या में  फिट रहने के लिए व्यायाम और जॉगिंग करना अति आवश्यक है, हालांकि अधिकतर व्यायाम ऐसे होते हैं जो ज्यादा उम्र के स्त्री-पुरुष नहीं कर सकते, लेकिन धीमी गति से जॉगिंग करना और  एक ऐसा व्यायाम है जो सभी व्यक्ति कर सकते हैं। पैदल चलने के फायदे बहुत होते हैं , यह भी फिट रहने के लिए एक ऐसा व्यायाम है, जिसमें न तो किसी चीज की आवश्यकता पड़ती है और न ही अधिक परिश्रम की आवश्यकता है। आप किसी भी उम्र के हों, पैदल चलना आपकी रोजमर्रा की जिंदगी का हिस्सा बन सकता है।जॉगिंग करने के कई फायदे हैं, जिसका सबसे ज्यादा फायदा है अच्छी सेहत पाना। जॉगिंग से न केवल शारीरिक स्वास्थ्य ही प्राप्त होता है,अपितु आपका सौंदर्य भी बरकरार रहता है। ज्यादातर लोग अपने को फिट बनाए रखने के लिए खाना छोड़ देते हैं या अपराध बोध से ग्रस्त हो जाते हैं, जैसे कि उन्होंने कितना खा लिया? इस प्रकार का अपराध बोध उनके लिए हानिकारक भी सिद्ध हो सकता है. आप जितना ज्यादा व्यायाम करेंगे , उतना ज्यादा खा सकते हैं और अपराध बोध से मुक्त हो सकते हैं| जॉगिंग आपको मानसिक शांति प्राप्त होगी और आपकी मांसपेशियों को भी मजबूती मिलेगी। 

 

 

क्या लाभ है जॉगिंग से 

जॉगिंग करने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में बढ़ोतरी होती है |

जोगिंग से शरीर में रक्त संचार बढ़ता हैं तथा सभी अंगो तक ऑक्सीजन युक्त रक्त भरपूर मात्रा में पंहुचता हैं |

हर रोज़ जॉगिंग करने से बॉडी में नई ऊर्जा का संचार होता हैं |

नियमित रूप से जॉगिंग करने से शरीर की मांस पेशियाँ मजबूत होती हैं तथा आपके शरीर के जोड़ भी मजबूत होते हैं |

नियमित जॉगिंग से कैलोरी बर्न होती हैं और मोटापा तथा अन्य कई रोगों से मुक्ति मिलती हैं |

जॉगिंग करने से अच्छी नींद आती हैं | फेफड़ो को मजबूती मिलती है और साँस सम्बंधित बीमारियों से बचाव होता है |

जॉगिंग और सैर करने से शरीर में इन्सुलिन बनने की प्रक्रिया में सुधार होता है जिससे ब्लड शुगर काबू में रहता है.

 

 जॉगिंग या सैर करने से पहले यह ध्यान रखें-

प्रारंभ में धीरे-धीरे चलना शुरू करें, फिर अपनी रफ्तार बढ़ाते जाएं।

जॉगिंग पर जाने से पहले और बाद में एक गिलास पानी अवश्य पीएं। या हल्के गर्म पानी में नींबू का रस थोडा सा काला नमक और एक चमम्च शहद (Honey) मिलाकर पियें इससे सैर के दौरान और बाद में थकावट महसूस नहीं होगी और पसीना निकलने से जो पानी की कमी होती है वह भी पूरी हो जाएगी | 

जरूरत के अनुसार अपनी चाल तेज करें, इतनी भी न करें कि सांस फूलने लगे। पर हाँ , इतनी गति अवश्य रखें की पसीना आ जाये |और एक बार पसीना आने के बाद अपनी गति को धीमा कर दें |

तेज गति से जॉगिंग करने से शरीर में अतिरिक्त चर्बी कम होने लगती है और ह्रदय की धड़कन में सुधार होने लगता हैं |

जागिंग करते समय दबाव हाथो , पैरों और बाजू व् कंधो पड़ना चाहिए जैसे की आप पंजो के बल भाग रहे हो पर अपनी चाल को धीमा रखे |

शुरू में हफ्ते में तीन बार कम-से-कम तीन किलोमीटर तक पैदल चलने की योजना बनाएं।

कोई भी व्यायाम या जॉगिंग प्रदूषण-युक्त वातावरण में नहीं किया जाए तो फायदेमंद होगा अगर प्रदूषित वातावरण में जागिंग करेंगे तो उल्टा नुकसान ही होगा क्योंकि सामान्य अवस्था के मुकाबले दौड़ते भागते समय हमारे फेफड़े ज्यादा हवा खींचते हैं, और अगर धुए या प्रदूषण वाली हवा अंदर जाएगी तो नुकसान ही होगा |

सैर करते समय गहरी साँस लें |जॉगिंग करने के लिए किसी खास उपकरण की आवश्यकता नहीं होती, केवल एक जोड़ी आरामदेह जूते की और एक जोड़ी आरामदायक पोशाक ही चाहिए ।

सुबह की सैर तेज गति से होनी चाहिए और रात को खाना खाने के बाद धीरे-धीरे टहलना चाहिए |

प्रतिदिन सुबह नंगे पांव घास पर चलने की आदत डालें। नंगे पैर जमीन पर चलने से बॉडी पोश्चर ठीक रहता है और शरीर में ब्लड सर्कुलेशन भी बढ़ता। इससे आपकी कमर भी हमेशा सीधी रहती है। इस तरह चलने का संबद्ध एक्‍यूप्रेशर के सिद्धान्त पर आधारित होता है इससे पैरों के तलवो के विभिन्न पॉइंट्स पर सीधे दबाव पड़ता हैं |

प्रात: काल एक गिलास नींबू (Lemon) पानी पीएं। समय पर सोएं और समय पर उठे। आपको राहत महसूस होगी। यह भी अवश्य पढ़ें – जानिए 5 एनर्जी ड्रिंक जो रखे आपको तरोताजा बढाये स्टेमिना |

जोर जबरदस्ती और ज्यादा शारीरिक ताकत से काम न लें।

अत्यन्त गर्म और ठंडे तापमान में जॉगिंग करने से बचे।

पैरों में ज्यादा पसीना आए तो पाउडर लगाकर जूते पहनें। इससे पैरों में से बदबू नहीं आएगी।

अगर आपको कोई ह्रदय सम्बंधित रोग या अन्य बीमारी है तो कृपया कोई भी फिटनेस प्रोग्राम शुरू करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श अवश्य कर लें।

web team IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps