News

मास्टर ब्लास्टर हुए 45 के,रमन सहित देश भर के सितारों ने दी बधाई

Last Modified - April 24, 2018, 12:31 pm

मुंबई - मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर आज 45 साल के हो गए। उनके बल्ले के चर्चे के साथ साथ उनकी ज़िंदगी के  बहुत से वाकिये है जो सुर्खियों में रहे सचिन तेंदुलकर बेशक अब क्रिकेट से संन्‍यास ले चुके हैं लेकिन अभी भी वे देश के भावी क्रिकेटरों के लिए आदर्श बने हुए हैं. एमएस धोनी, वीरेंद्र सहवाग और विराट कोहली जैसे क्रिकेट सितारे यह बात कह चुके हैं कि क्रिकेट के इस 'भगवान' की बैटिंग को देखकर ही उन्‍होंने क्रिकेट खेलना शुरू किया 

 

 सचिन हमेशा से लोगों के दिलों में राज किये हैं। उनकी छवि शांत और मददगार क्रिकेटर के तौर पर है।  आज सचिन के जन्मदिन पर देश भर में खुशियों का माहौल है कहीं सचिन के नाम की पूजा अर्चना की जा रही है तो कहीं सचिन को सोशल मीडिया में बधाई देने का ताता लगा है।इस अवसर पर देश के नामी फिल्म स्टार से लेकर बड़े राजनेता भी सन्देश के माध्यम से उनकी लंबी उम्र की कामना कर रहे हैं। 

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने भी सचिन तेंदुलकर को सन्देश भेजा है उन्होंने लिखा है -

 

आपको बता दे की सचिन बचपन में बेहद शरारती थे.उन्हें कोचिंग में पढ़ाने वाले आचरेकर सर  उन्हें बेहद डाँटते थे। इस बात को ज़िक्र उन्होंने कई बार किया है कि  अचरेकर सर की  डांट ने उन्‍हें अनुशासन का ऐसा पाठ पढ़ाया जो उनके लिए बेहद काम आया.

अपने  ट्वीट में सचिन ने बताया था कि  यह मेरे स्कूल के दिनों के दौरान बात थी. मैं अपने स्कूल शारदाश्रम विद्यामंदिर स्कूल की जूनियर टीम से खेल रहा था और हमारी सीनियर टीम वानखेडे स्टेडियम  में हैरिस शील्ड का फाइनल खेल रही थी. उसी दिन अचरेकर सर ने मेरे लिए एक प्रैक्टिस मैच का आयोजन किया था. उन्होंने मुझसे स्कूल के बाद वहां जाने के लिए कहा था.सर ने  कहा, मैंने उस टीम के कप्तान से बात की है, तुम्हें चौथे नंबर पर बैटिंग करनी है. सचिन ने बताया कि मैं उस प्रैक्टिस मैच को खेलने नहीं गया और वानखेडे स्टेडियम सीनियर टीम का मैच खेलने जा पहुंचा.

मैं वहां अपने स्कूल की सीनियर टीम को चीयर कर रहा था. खेल के बाद मैंने आचरेकर सर को देखा, मैंने उन्हें नमस्ते किया. अचानक सर ने मुझसे पूछा, आज तुमने कितने रन बनाए?  सचिन के अनुसार- मैंने जवाब में कहा-सर,  मैं सीनियर टीम को चीयर करने के लिए यहां आया हूं. यह सुनते ही, अचरेकर सर ने सबके सामने मुझे डांट लगाई. उनके एक-एक शब्‍द अभी भी मुझे याद हैं.और मै उसके बाद अनुशासन की कीमत जान गया। 

आपको बता दे की सचिन लता मंगेशकर के बेहद करीब है और हर साल लता जी उन्हें सबसे पहले विश करती हैं.

web team IBC24  

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News