News

पुजारी ने मंदिर में किया पाप, दिव्यांग युवती की लूटी अस्मत

Created at - April 27, 2018, 11:08 am
Modified at - April 27, 2018, 11:08 am

धमतरी। युवती-महिलाओं के साथ बढते दुष्कर्म की वारदातों के चलते आरोपियों के लिए फांसी की सजा का कानून बनाये जाने की मांग देशभर में हो रही है। आस्था की आड में नाबालिग के साथ रेप के मामले में हाल ही में संत आशाराम को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। इसके बावजूद हवस के पूजारियों में कानून को लेकर जरा भी खौफ नहीं है। जहां धमतरी में मंदिर जैसे पवित्र जगह में एक दरिंदे पूजारी ने दिव्यांग युवती को अपने हवस का शिकार बनाया। इतना ही नहीं किसी को घटना की जानकारी देने पर उसे जान से मारने की धमकी दी गई थी, जब युवती की तबियत बिगडी तब उसे इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

यह भी पढ़ें - पिता ने तेरह साल की बेटी को बेचा, खरीददार के बेटे ने की रेप की कोशिश, सभी गिरफ्तार 

बताया गया है कि कोतवाली थाना इलाके के इतवारी बाजार स्थित राममंदिर में रमाकांत वैष्णव नामक सख्श पूजारी का काम करता है, और उसी मंदिर में रहता है। 24 अप्रैल की शाम करीबन 5 बजे काॅलेज छात्रा जो कम्प्यूटर क्लास से अपने घर लौट रही थी, उसे बहाना बुलाकर मंदिर के अंदर बुलाया। युवक ने दिव्यांग छात्रा से कहा कि उसकी मां मंदिर के अंदर पोछा कर रही है। जैसे ही छात्रा ने मंदिर में प्रवेश किया वैसे ही मौका पाकर आरोपी रमाकांत वैष्णव ने दरवाजा बंद कर दिया। इस बीच युवती डरकर बेहोश हो गई, उसे जब होश आया तो उसकी अस्मत लॅूट चुकी थी। इसके बाद वह डरी सहमी घर तो पहुंची लेकिन घर पहुंचते ही, उसकी तबियत बिगड गई। जिसे परिवार वालों ने उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया। तब पीडिता ने अपनी आपबीती परिजनों को बताई और मामले की रिपोर्ट थाना पहुंचकर दर्ज कराई।

यह भी पढ़ें - नशे में धुत ASI ने की साली से दुष्कर्म की कोशिश, बीच-बचाव में आई पत्नी को मारा चाकू

बहरहाल मामले में कोतवाली पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 376, 342, 506 के तहत मामला दर्ज किया है और उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। मंदिर जैसे पवित्र जगह में अपनी हवस की आग बुझाने वाले पूजारी की इस हरकत से शहर में आक्रोश का माहौल देखा जा रहा है।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News