रायपुर News

हाईपावर कमेटी का मप्र दौरा पूरा, शिक्षाकर्मियों ने दोहराया-रिपोर्ट सार्वजनिक कर संविलियन का ऐलान करे

Last Modified - May 15, 2018, 9:36 pm

रायपुर। मध्यप्रदेश में संविलियन की चल रही आंतरिक प्रक्रिया का अध्ययन करने गई कमेटी का दौरा पूरा हो गया है। अपर मुख्य सचिव आरपी मंडल के नेतृत्व में कमेटी मप्र दौरे पर गई थी। बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के ऐलान के बाद मध्यप्रदेश में जल्द ही आदेश जारी किए जा सकते हैं।

मध्यप्रदेश में कमेटी का दौरा पूरा होने के बाद छत्तीसगढ़ शिक्षक संघ कमेटी की रिपोर्ट पर नजर बनाए हुए है।  मोर्चा के प्रदेश संचालक संजय शर्मा ने राज्य सरकार से मांग करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री कमेटी से प्रतिवेदन लेकर विकास यात्रा के प्रारम्भ में ही संविलियन की घोषणा करें।

संजय शर्मा ने बताया कि राजस्थान में संविलियन हुआ है, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री संविलियन की घोषणा पर अपनी प्रतिबद्धता अनेक बार व विधानसभा में भी प्रस्तुत कर चुके है, अतः संविलियन पर कोई संवैधानिक बाधा नहीं है। छत्तीसगढ़ में भी मुख्यमंत्री रमन सिंह संविलियन की घोषणा करनी चाहिए।

शिक्षाकर्मी के संघ के संचालक संजय शर्मा ने मध्यप्रदेश में अध्ययन करने गई कमेटी से मांग की है कि वो मध्यप्रदेश और राजस्थान दौरे का प्रतिवेदन जल्द पेश करें। मध्यप्रदेश में संविलियन के ऐलान के बाद हाल ही में सीएम शिवराज सिंह ने बोर्ड परीक्षा परिणाम की घोषणा के अवसर पर पुनः कहा था कि मप्र के सभी अध्यापक व संविदा शिक्षकों को शिक्षा विभाग में एक ही कैडर में संविलियन किया जाएगा।

शिक्षक पंचायत ननि मोर्चा छग के प्रांतीय संचालक विरेन्द्र दुबे के कहा कि- "अब सभी जगह के दौरे समाप्त हो गए, हाई पावर कमेटी का कार्यकाल भी दो बार बढाने के बाद वह भी समाप्त हो गए हैं,मोर्चा सहित समस्त संगठन प्रमुखों से मुख्यसचिव महोदय की 2 दौर की बैठक भी सम्पन्न हो चुकी है। अब कोई कारण नही बचता जिससे संविलियन करने में विलम्ब हो..!! अतः हाई पावर कमेटी समस्त दौरों की रिपोर्ट मुख्यमंत्री जी को सौंपने के साथ साथ सार्वजनिक भी करे ताकि पूरे प्रदेश को यह ज्ञात हो सके कि शिक्षाकर्मियों के संविलियन में कोई भी तत्व बाधक नही है। मुख्यमंत्री जी बार बार कमेटी का उल्लेख करते हैं, अब कमेटी अपने सारे काम समाप्त कर चुकी है अतः मुख्यमंत्री जी प्रदेश के समस्त शिक्षाकर्मियों का अविलम्ब संविलियन आदेश जारी करे।"

ज्ञातव्य है कि प्रदेश के शिक्षाकर्मी इस बार संविलियन की रट लगाए बैठे है, उन्हें संविलियन से कम कुछ भी मंजूर नही है। शिक्षक पँ ननि मोर्चा के नेतृत्व में इस वर्ष शासन के दमनात्मक रवैया होने के बावजूद राजधानी में जबरदस्त आंदोलन किया गया,छात्रहित में स्थगन करते हुए लगातार अपनी मांगों को लेकर अपनी सक्रियता शिक्षाकर्मियों ने बनाये रखी। लगातार शासन द्वारा टालमटोल किये जाने पर प्रदेश के शिक्षाकर्मियों ने 11 मई को राजधानी में महापंचायत में किया जिसमें लगभग 50000 शिक्षाकर्मियों ने अपना आक्रोश व्यक्त किया और 26 मई को फिर से संविलियन संकल्प दिवस मनाने का निर्णय लिया जिसके अंतर्गत प्रदेश के 90 विधानसभा क्षेत्रों में संविलियनगड़ी, सेल्फी विद फैमिली, विडियो बनाओ-दुखड़ा सुनाओ, दीवार लेखन जैसे नवप्रयोगो के माध्यम से शिक्षाकर्मी अपने संविलियन की मांग को मुखर कर रहे हैं।

शिक्षक पँ ननि मोर्चा के प्रांतीय उपसंचालक धर्मेश शर्मा, सांत्वना ठाकुर, चंद्रशेखर तिवारी और जितेन्द्र शर्मा ने आगामी रणनीतियों का खुलासा करते हुए बताया कि- सेल्फी विद कम्युनिटी के साथ साथ "गुरुदक्षिणा" की मुहिम भी चलाई जावेगी जिसमे हमारे भूतपूर्व छात्र और वर्तमान छात्र सम्मलित होंगे। हमारे छात्र-छात्राएं हमारी समस्याओं से अवगत हैं, वही प्रदेश की भावी पीढ़ी भी है, हमारी संविलियन की लड़ाई ना केवल हम शिक्षाकर्मियों की है अपितु इन युवाओं की भी है, संविलियन से फिर सभी नियमित पदों पर भर्तियां होंगी,अस्थाई और कर्मी व्यवस्था समाप्त होगी। हमारे छात्र हमसे लगाव रखते हैं वो "गुरुदक्षिणा" मुहिम के जरिये शासन से अपील करेंगे कि शिक्षाकर्मियों की समस्याओं का स्थायी और समग्र समाधान हो, संविलियन हो।

 

 

वेब डेस्क, IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News