रायपुर News

पंचायती राज सम्मेलन में बरसे राहुल, कहा- कोर्ट और मीडिया तक में डर का माहौल

Last Modified - May 17, 2018, 12:03 pm

रायपुर। छ्त्तीसगढ़ दौरे पर रायपुर पहुंचे राहुल गांधी ने इनडोर स्टेडियम में पंचायती राज सम्मेलन की शुरुआत में ही कर्नाटक चुनाव को लेकर बीजेपी पर जमकर निशाना साधा। राहुल ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जज अपना काम नहीं कर पा रहे हैं। देश के लोगों में एक डर फैला हुआ है। उन्होंने कहा कि जज और मीडिया दोनों जगह डर का माहौल है। 

ये भी पढ़ें-छत्तीसगढ़ बीजेपी का राहुल पर ट्वीटर अटैक, कांग्रेस अध्यक्ष ने कर्नाटक के घटनाक्रम पर साधा निशाना

राहुल ने आरएसएस पर भी निशाना साधा। देश के हर संस्था को आरएसएस के लोग अपने लोगों से भर रहे हैं

कांग्रेस बहुत सालों तक हिंदुस्तान को चलाया, संवैधानिक संस्थाओं को कभी अपने लोगों से नहीं भरा। इन संस्थाओं में अपने लोग बैठाने का लक्ष्य क्या है आरएसएस और बीजेपी नहीं चाहते इस देश के गरीब लोगों की आवाज सुनी जाए। वे नहीं चाहते रोहित वेमुला जैसे लोग सपना देखें। उनका कहना है कि महिला पुरुषों के सामने खड़े न हों। महिलाएं खुलकर न बोलें। महिलाओं का काम उनके लिए खाना पकाना है। दलितों के लिए उनका नजरिया सफाई के लिए है। उनकी नजर में आदिवासियों को अपनी जगह पर रहना चाहिए। यह उनकी विचारधारा है। हिंदुस्तान गरीब देश नहीं है। यह गरीबों का देश है मगर गरीब देश नहीं हैइस देश मे लाखोम करोड़ रुपये 15 से 20 लोगों को दिए जाते हैं। छत्तीसगढ़ के पास खदान और पानी है। मगर यह लोगों के पास नहीं है। 

ये भी पढ़ें- राहुल पहुंचे राजधानी, अरविंद नेताम का हो सकता कांग्रेस प्रवेश 

'आरएसएस और बीजेपी का लक्ष्य है कि, किसान गरीब महिलाओं की आवाज दबाकर देश का धन चुने हुए लोगो को दे दो'

मेरे ऊपर सबसे बड़ा हमला तब हुआ जब मैं भट्टा परसौल गया। उस दिन से मेरे उपर हमले शुरू हुए। हमने भूमि अधिग्रहण बिल दिया इसमे सबसे ज्यादा फायदा किसका हुआ। अगर गांव की जमीन ली जाएगी पंचायत की अनुमति के बगैर नहीं ली जाएगी। तीन बार आर्डिनेंस लाकर बीजेपी ने इसे मिटाने की कोशिश की । जब इसे हमारे विरोध के बाद वापस नहीं कर पाए तो राज्यों के सीएम से भू अधिग्रहण कानून को निपटाने की जिम्मेदारी दी। 

ये भी पढ़ें-कर्नाटक के तीसरी बार मुख्यमंत्री बने येदियुरप्पा, राज्यपाल वजुभाई ने दिलाई शपथ

पीएम सदन में मनरेगा का उपहास करते हैं। इसका अधिकार पँचायती राज को था। एम में इतनी ताकत नहीं कि मनरेगा को बंद कर सकें। आज पंचायती राज के अधिकार अधिकारियों को दे दिया गया। इसका कारण है कि भारत के पंचायत के संगठन में इतनी शक्ति है कि वे उनके सामने खड़े होकर लड़ सकते हैं।  हम पंचायत को कमजोर नहीं होने देंगे।  21वीं सदी में संविधान की रक्षा पंचायती राज के प्रतिनिधि ही करेंगे। अगर सैनिक देश की सीमा की रक्षा करते हैं। वही काम आप देश के अंदर करते हैं। आपको मैडल नहीं मिलता फिर भी आप लड़ते हैं। आप लोकतंत्र के लिए लड़ते हैं। आप अंबेडकर और गांधी के विचारों के लिए लड़ते हो। 

उन्होंने कहा कि कर्नाटक में देखा है कि विधायक एक तरफ हैं और राज्यपाल दूसरी तरफ हैं। जेडीएस के विधायकों ने कहा कि उन्हें 100 करोड़ का ऑफर दिया गया है। प्रेस इतनी डरी हुई है कि राफेल के बारे में कोई चर्चा नहीं होती। राहुल कहा कि कांग्रेस की सरकार आएगी तो सबसे ज्यादा अधिकार पंचायतों को मिलेगा। सरकार के निर्णय में पंचायती राज के लोगों से सलाह कर कोई फैसला लिया जाएगा। ऐसा नहीं हुआ तो सीएम हम सीएम बदल देंगे। धारा 40 जब पंचायती राज प्रतिनिधियों पर लग सकता है तो इसे विधायक, सांसद और प्रधानमंत्री पर लगाओ। उन्होंने कहा कि आदिवासियों से जल जंगल जमीन छीना जाता है।

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News