रायपुर News

किसानों ने हजारों लीटर दूध नदी में बहाया, दूध को अमानक बताने का विरोध

Created at - May 17, 2018, 2:04 pm
Modified at - May 17, 2018, 2:04 pm

गरियाबंद। छत्तीसगढ़ के गरियाबंद में किसानों ने अपना हजारो लीटर दूध नदी में बहा दिया है। किसानों ने दुग्ध संघ के फैसले के खिलाफ ये कदम उठाया है। दुग्ध महासंघ ने किसानों द्वारा सप्लाई की जाने वाली दूध को अमानक ठहराते हुए दूध न खरीदने का ऐलान किया है। समिति के इस फैसले के बाद नाराज किसानों ने हजारों लीटर दूध को नदी में बहा दिया। 

ये भी पढ़ें- आदिवासी नेता अरविंद नेताम की कांग्रेस में वापसी, 6 साल पहले हुए थे पार्टी से बाहर

ये भी पढ़ें- पंचायती राज सम्मेलन में बरसे राहुल, कहा- कोर्ट और मीडिया तक में डर का माहौल

किसानों का आरोप है कि समिति तीन साल से दूध खरीद रही है। दूध को आज अमानक बता रहे है। किसानों ने दुग्ध संघ के इस फैसले के खिलाफ कलेक्टर और जिले के प्रभारी मंत्री बृजमोहन अग्रवाल से मिलने की बात कही है। 

ये भी पढ़ें- मध्यप्रदेश में बड़ा प्रशासनिक फेरबदल, 36 आईएएस अफसरों के तबादले

आपको बतादें जिले के कई किसान गौल पालन के लिए करोड़ो रूपए का कर्ज लिया है। ऐसे में दुग्ध संघ के इस फैसले से नराज किसान आत्महत्या करने की बात कह रहे हैं। 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News