भोपाल News

किसान आंदोलन को लेकर पुलिस मुस्तैद, 100 वाहनों के साथ 5000 जवान संभालेंगे मोर्चा

Created at - May 30, 2018, 12:25 pm
Modified at - May 30, 2018, 12:25 pm

भोपाल। प्रदेश में एक जून से होने वाले किसान आंदोलन को लेकर पुलिस ने कमर कस ली है। हिंसक आंदोलन के दौरान आंदोलनकारियों से निपटने के लिए किसान को लाठी, डंडे, वाहन और अतिरिक्त फोर्स का डिप्लोयमेंट कर दिया गया है। स्थानीय स्तर पर भी पुलिस फोर्स ने मोर्चा संभाल लिया है।

ये भी पढ़ें- दिल्ली के फैक्ट्री में लगी आग हुई बेकाबू, आग बुझाने में जुटा एयरफोर्स का हेलीकॉप्टर

पिछले साल के किसान आंदोलन से सबक लेते हुए इस बार आगामी एक जून से होने वाले किसान आंदोलन के लिए पुलिस मुख्यालय ने तैयारी कर ली है। आंदोलनकारियों से निपटने के लिए पुलिस ने चिन्हित 35 जिलों में 10 हजार लाठियों के साथ हेलमेट, चेस्टगार्ड आवंटित किए गए है इन जिलों में 100 चार पहिया पुलिस वाहनों को भेजा गया है। 

ये भी पढ़ें- सफर में सेक्स और शराब का कॉकटेल, पीएम और मंत्री तक पहुंची एयर होस्टेस

सबसे ज्यादा वाहन इंदौर, राजगढ़ में 8-8, मुरैना में 7, भोपाल, दतिया में 6-6, शिवपुरी, गुना, सतना में 5-5 गाड़ियां दी गई हैं। आंदोलन के मद्देनजर SAF की 87 कंपनी और 5000 अतिरिक्त जवान तैनात. किए गए हैं। इसके साथ साथ स्थानीय स्तर पर थानों और पुलिस लाइन के फोर्स ने भी मोर्चा संभाल लिया है। यही नहीं किसान नेताओं की जिलों में 'मैन टू मैन" मार्किंग की जा रही है। आंदोलन के हालात के मुताबिक इंटरनेट सेवाओं पर पाबंदी का फैसला लिया जाएगा। 

ये भी पढ़ें- सफर में सेक्स और शराब का कॉकटेल, पीएम और मंत्री तक पहुंची एयर होस्टेस

उधर एक से दस जून तक प्रस्तावित किसान आंदोलन के मद्देनजर मंदसौर, नीमच, रतलाम सहित अन्य जिलों में बांड भरवाए जा रहे हैं। बांड ओवर की कार्रवाई से किसान काफी नाराज हैं वहीं कांग्रेस भी इसका विरोध कर रही है। दूसरी तरफ सरकार को बॉन्ड भरवाने की जानकारी ही नहीं है...गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह का कहना है कि शासन ने बांड भरवाने के किसी तरीके के कोई निर्देश नहीं दिए कि बांड भरवाएं और इस तरह की कोई जरूरत भी नहीं..वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कांग्रेस पर लाशों की राजनीति करने का आरोप लगाते हुए कहा कि कांग्रेस मध्यप्रदेश को खून से रंगना चहती है।

ये भी पढ़ें- बूढ़ातालाब को संवारने एक और जतन, प्राकृतिक तरीके शुद्ध कर पानी तालाब में छोड़ा जाएगा

उधर किसान आंदोलन को लेकर डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्रा ने इंदौर जिले के पुलिस अधिकारियों की बैठक ली. उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि गांव से बराबर दूध सब्जी फल आते रहे। इस दौरान मंडियों के साथ ही दूध विक्रय के ठिकानों पर खासी नजर रखनी पड़ेगी। पुलिस पार्टी पेट्रोलिंग करेगी ताकि दूध सब्जी और फल बेचने वालों को किसी तरह की कोई परेशानी ना हो।

 

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News