ग्वालियर News

पानी की किल्लत में लोगों ने लूटा टैंकर, पुलिस के पहरे में बांटा जा रहा पानी

Created at - June 2, 2018, 7:46 pm
Modified at - June 2, 2018, 7:54 pm

भोपाल। मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले में पानी की इस कदर किल्लत हो गई है कि लोग टैंकर लूटने लगे हैं। लिहाजा लूट रोकने के लिए पानी को पुलिस के पहरे में बांटने की नौबत आ गई है । ऐसी हालत के लिए नगर नगर निगम के बदइंतजामी ही जिम्मेदार है। सिंधिया नगर में दो महीने से बोरिंग खराब है। मजबूरी में लोगों को कई किलोमीटर दूर से पानी लाना पड़ रहा है। लोग परेशान हैं लिहाजा नगर निगम के खिलाफ सड़क पर भी उतरना पड़ रहा है।

ये भी पढ़ें- किसान आंदोलन, होशंगाबाद में मुफ्त बांटा दूध, दिल्ली-मुंबई में महंगी हुई सब्जियां

पानी की किल्लत से नगर निगम भी अनजान नहीं है। लेकिन जवाब के नाम पर अधिकारी केवल आंकड़ों की बाजीगरी और अपनी मजबूरी का हवाला दे रहे हैं। पानी के इंतजाम के नाम पर नगर निगम ने पैसा तो पानी की तरह ही बहाया है लेकिन हालत सुधरी नहीं है। कैकेटो और पेहसारी डेम से तिघरा में पानी लाने के नाम पर साढ़े नौ करोड़ रुपए खर्च कर दिए हैं । जुलाई महीने तक बोर और पानी के टैंकरों की सप्लाई के नाम पर 10 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च हो चुकेंगे। 

ये भी पढ़ें- 19 सूत्रीय मांगों को लेकर वनकर्मियों ने कराया मुंडन, महिलाओं ने भी त्यागे केश

पानी कितना कीमती है इसे बताने के लिए ये तस्वीर ही काफी है। ये नजारा है मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले का जहां पानी पुलिस के पहरे में बांटने की नौबत आ गई है। ऐसा इसलिए क्योंकि पानी की किल्लत के चलते लोग टैंकर तक लूट ले रहे हैं। ऐसी हालत के लिए नगर नगर निगम के बदइंतजामी ही जिम्मेदार है। सिंधिया नगर में दो महीने से बोरिंग खराब है। मजबूरी में लोगों को कई किलोमीटर दूर से पानी लाना पड़ रहा है..। लोग परेशान हैं लिहाजा नगर निगम के खिलाफ सड़क पर भी उतरना पड़ रहा है। पानी की किल्लत से नगर निगम भी अनजान नहीं है। लेकिन जवाब के नाम पर केवल आंकड़ों की बाजीगरी और अपनी मजबूरी का हवाला है।

ये भी पढ़ें- मानवता फिर शर्मशार, ठेले में लाश रख ले गए परिजन 

पानी के इंतजाम के नाम पर नगर निगम ने पैसा तो पानी की तरह ही बहाया है लेकिन हालत सुधरी नहीं है। कैकेटो और पेहसारी डेम से तिघरा में पानी लाने के नाम पर साढ़े नौ करोड़ रुपए खर्च कर दिए हैं । जुलाई महीने तक बोर और पानी के टैंकरों की सप्लाई के नाम पर 10 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च हो चुकेंगे। सवाल उठना लाजिमी है कि 20 करोड रुपए खर्च होने के बावजूद भी तब पानी को पुलिस के पहरे में बेचने की नौबत आखिर क्यों आई। 

 

वेब डेस्क, IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News