News

रोनी स्क्रूवाला और मेघना गुलजार ने 'मानेकश' के लिए मिलाया हाथ

Last Modified - June 5, 2018, 3:36 pm

 मुंबई।अनुभवी फिल्म निर्माता रोनी स्क्रूवाला और मेघना गुलजार ने 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष रह चुके फील्ड मार्शल सैम मानेकश की कहानी बताने के लिए एकसाथ आ गए है।मेघना गुलजार अब सैम मानेकश पर आधारित अपनी अगली बायोपिक का निर्देशन करने के लिए तैयार है  जो फील्ड मार्शल के पद पर प्रमोट किये जाने वाले पहले भारतीय सेना अधिकारी है। वह 1971 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान भारतीय सेना के सेनाध्यक्ष के चीफ थे और उनके सैन्य कैरियर में चार दशक और पांच युद्ध घटित हुए थे।

जब मेघना से इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा,"यह कड़वा-मीठा सच है "एक फिल्म से दूसरी फिल्म की तरफ बढ़ने का सफर होता है, लेकिन हमेशा एक ऐसी कहानी बताने में खुशी होती है जिसने आपका ध्यान सहजता से पकड़ लिया है। फील्ड मार्शल ने विशाल और समृद्ध जीवन व्यतीत किया है, ऐसे में दो घंटे में उनकी विशाल कहानी को न्याय देना काफी चुनौतीपूर्ण है। रोनी ने मुझे 2015 में संपर्क किया था और कहा कि वह मेरे साथ काम करना चाहते है और इस बात से मैं काफी खुश थी मुझे उनका काम पसंद है। उस वक़्त फ़िल्म के लिए हमारे पास कोई विषय नहीं था और तभी बातचीत के दौरान सैम मानेकश पर फ़िल्म बनाने का विचार आया। यह आईडिया सुन कर मैं उछल पड़ी।

ये भी पढ़ें -वेस एंडरसन की आइल ऑफ डॉग्स भारत में 6 जुलाई को रिलीज होगी

अपनी आगामी निर्देशन में व्यस्त, फिल्म निर्माता ने सूचित किया,"फिलहाल हम लेखन के शुरुआती स्टेज पर हैं जबकि शोध एक वर्ष से चल रहा है क्योंकि यह एक विस्तृत विषय है। जब राज़ी पोस्ट प्रोडक्शन में थी तब मैंने कंटेंट पर आंतरिक तौर पर शुरू कर दिया था। फिल्म को जबरदस्त तैयारी की आवश्यकता है। फिल्म का एक हिस्सा 71 युद्ध के युग में स्थापित किया जाएगा जो अभी मेरे लिए काफी परिचित है (राजी को भी 1970 के दशक में स्थापित किया गया था) लेकिन अन्यथा यह पूरी दुनिया है।इसके बाद, अगले कुछ महीनों में मेघना मेनकेश की बेटी और पोते से मुलाकात करेंगी। उन्होंने कहा,"मैं नए लेखक शांतनु श्रीवास्तव के साथ मेरी पिछली फिल्म राज़ी के सह-लेखक के साथ फिर से काम करने के लिए उत्सुक हूँ।निर्माता रोनी स्क्रूवाला भी फिल्म के लिए ख़ासा उत्साहित है। "मैंने हमेशा महसूस किया है कि भारत में रोल मॉडल की कमी है। जब सैम मानेकश की बात आती है तो यह एक ऐसी कहानी है जिसे बताया जाना चाहिए और यह न केवल भारत के पहले और एकमात्र क्षेत्र के मार्शल होने के नाते या पाकिस्तान के खिलाफ लड़े युद्धों में सबसे आगे है, बल्कि यह एक प्रेरणादायक कहानी है। मैं भी अपनी पत्नी (ज़रीना मेहता) की तरफ से मनकेशा से संबंधित हूं। यह समझने के लिए उन्हें कुछ सेकंड का वक़्त लग गया है कि राज़ी के बाद वह ऐसी ही फ़िल्म करना चाहती है,रोनी कहते हैं।

फ़िल्म से जुड़ी योजना पर बात करते हुए फ़िल्म निर्माता ने कहा,"अगले तीन महीनों में हमारी स्क्रिप्ट तैयार हो जाएगी। फ़िल्म को कम से कम छह महीने की तैयारी की ज़रूरत है। फ़िल्म की शूटिंग कब शुरू होगी यह मुख्य कलाकार और उनकी तारीख पर निर्भर करता है। किरदार निश्चित रूप से एक समय से गुज़रेगा। वह शरारती होने के साथ-सतग वह बुद्धिमान और अनुशासित भी है। आकर्षण भी एक महत्वपूर्ण पहलू है क्योंकि मानेकश के पास हमेशा मजाक के लिए समय था, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि वह कितना व्यस्त थे। हमारे साथ मानेकश का परिवार और सेना में उनके पहले और दूसरे सहायक भी है। कहानी की प्रमाणिकता बनाये रखने के लिए कई साथी और सहयोगी भी शामिल है।

 वेब डेस्क IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News