रायपुर News

हाथी को अंतिम विदाई, अंतिम संस्कार वाली जगह घंटों खड़ा रहा हाथियों का दल

Created at - June 13, 2018, 2:04 pm
Modified at - June 13, 2018, 2:10 pm

कोरबा। हाथियों के सामाजिक होने की अक्सर मिसाल दी जाती है। हाथी अपने परिवार के साथ हमेशा झुंड में विचरण करते हैं। विपत्ति आने पर मिलकर सामना करते हैं। दरअसल ये वाकया कोरबा में देखने को मिली है। जहां झुंड से भटका एक 6 साल का हाथी हफ्ते दिन बाद मृत पाया गया। 

ये भी पढ़ें- माओवादियों के मांद में घुसकर मुंहतोड़ जवाब, 16 नक्सली गिरफ्तार

गांव वालों और वन विभाग की टीम ने जेसीबी के माध्यम से हाथी को गांव के बाहर लाकर उसके अंतिम संस्कार की प्रकिया पूरी कर ली थी। इसी दौरान अचानक 13 हाथियों का दल मौके पर पहुंच गया। जेसीबी चालक और गांव के लोगों ने जैसे-तैसे वहां से भागकर अपनी जान बचाई। हाथियों का दल अंतिम संस्कार वाली जगह पर करीब आधे घंटे तक खड़ा रहा।  

ये भी पढ़ें-'बापू की कुटिया' की छत गिरी, 6 माह पहले सीएम ने किया था लोकार्पण

आपने हाथियों की कई ऐसी खबरें देखा और सुना होगा कि जिसमें मुसीबत में पड़ने पर हाथी एक दूसरे की कैसे मदद करते हैं। यहां तक की हाथियों की मौत होने पर भी पूरा दल उसे अंतिम विदाई देता है। इससे साबित होता है। कि हाथी अपने परिवार के सदस्यों और समाज की रक्षा के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। 

 

वेब डेस्क, IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News