इंदौर News

भय्यूजी महाराज पंच तत्व में विलीन, नेता-मंत्री सहित भक्तों ने दी अंतिम विदाई, देखिए वीडियो

Last Modified - June 13, 2018, 4:34 pm

इंदौर। भय्यू महाराज का बुधवार दोपहर अंतिम संस्कार हो गया। खुदकुशी के दूसरे दिन दोपहर 2 बजे बापट चौराहे स्थित उनके सर्वोदय आश्रम से उनकी अंतिम यात्रा शुरू हुई, जो करीब 2.52 बजे भमोरी मुक्तिधाम पहुंची। फूलों से सजे वाहन में भय्यू महाराज की अंतिम यात्रा निकली तो पत्नी आयुषी बिलखते हुए बहवास हो गईं। बेटी कुहू शव वाहन में पिता के पास पूरे समय बैठी रही। इसके पहले सुबह 9 बजे बॉम्बे अस्पताल से पार्थिव देह को आश्रम लाया गया, जहां हजारों लोगों ने अंतिम दर्शन कर उन्हें श्रद्धाजंलि दी। महाराष्ट्र और मप्र से कई मंत्री और नेता सहित बड़ी संख्या में उनके भक्त पहुंचे। 

 

 

भय्यूजी महाराज की बेटी ने अंतिम संस्कार की रस्म निभाई। उन्हें शैया पर लिटाने के बाद मुखाग्नि देने की प्रक्रिया शुरू हुई। इसके पहले मंत्रोचार के साथ पंडितों ने अंतिम संस्कार की प्रक्रिया की।

अंतिम यात्रा में भजन मंडली रामधुन बजाते हुए शव वाहन के आगे चल रही थी। बेटी, परिजन और मंत्री पकंजा मुंडे शव वाहन में सवार थे। केंद्रीय मंत्री रामदास अठवाले, महाराष्ट्र की मंत्री पंकज गोपीनाथ मुंडे, मप्र कांग्रेस के नेता कृपाशंकर शुक्ला, पूर्व महापौर कृष्ण मुरारी मोघे, कम्प्यूटर बाबा, मराठवाड़ा के शिवसेना प्रमुख अंबादास दानवे और सांवेर से कांग्रेस के पूर्व विधायक तुलसी सिलावट ने भय्यू महाराज को श्रद्धाजंलि दी। महाराष्ट्र, मप्र सहित देशभर से हजारों भक्त आश्रम पहुंचे थे। 

केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने कहा कि बाबा साहब आंबेडकर के प्रति भय्यू महाराज की अगाध श्रद्धा थी। उनके असामयिक निधन से देश को क्षति हुई है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस के ओएसडी श्रीकांत भय्यू महाराज के आश्रम पर पहुंचे और उन्हें श्रद्धांजलि दी। भय्यू महाराज की 3 माह की बेटी को भी भय्यू महाराज के अंतिम दर्शन को लाया गया।भय्यू महाराज की मौत की सूचना के बाद देशभर से उनके भक्तों के आने का सिलसिला जारी है। बुधवार अलसुबह ही उनके अंतिम दर्शन के लिए आश्रम और उनके घर पर भक्तों का हुजूम लग गया। अपने गुरु की एक झलक पाने के लिए हजारों भक्त बापट चौराहे स्थित सर्वोदय आश्रम में पहुंचे हैं। भक्तों में महिलाएं और बच्चे भी शामिल हैं।

उधर, डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने कहा कि पुलिस वैज्ञानिक तरीके से पूरे मामले की जांच कर रही है। परिजनों की स्थिति ऐसी नहीं है कि अभी बयान रिकार्ड की जाए। भय्यू महाराज का दूसरा सुसाइड नोट मिला है। जिसमें सेवादार विनायक का जिक्र है। विनायक 16 साल से उनके साथ था। सोमवार को भय्यू महाराज से राऊ के होटल में जो महिला मिली थी, वह बच्चे के एडमिशन से जुड़े मामले के लिए आई थी। पुलिस मोबाइल कॉल डिलेट के साथ ही हर पहलू पर जांच कर रही है।

 वेब डेस्क IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News