इंदौर News

जानिए कौन है विनायक जो संभालेंगे भय्यूजी की संपत्ति

Created at - June 14, 2018, 12:18 pm
Modified at - June 14, 2018, 12:18 pm

इंदौर। भय्यूजी महाराज की खुदकुशी के बाद सुसाइड नोट में उन्होंने अपने सेवादार विनायक को अपनी संपत्ति की जिम्मेदारी सौंपा है। सुसाइड नोट में विनायक का नाम वायरल होने के बाद हर कोई उनके इस सेवादार और करीबी माने जाने वाले शख्स को जानने के लिए बेताब था। कि आखिर कौन है ये विनायक जिसपर भय्यूजी महाराज को इतना भरोसा था कि सुसाइड नोट में अपनी संपत्ति की सारी जिम्मेदारियां सारे वित्तीय अधिकार, संपत्ति बैंक खाते और दस्तखत तक के लिए विनायक पर भरोसा जताया। 

ये भी पढ़ें- दाती महाराज की शिष्या का आरोप- दुष्कर्म के बाद दाती महाराज उसे करीबी लोगों के पास भेजता था

तो चलिए हम आपको भय्यूजी महाराज के विश्वास यानी विनायक के बारे बताते हैं- विनायक करीब 15 सालों से भय्यूजी से जुड़ा है। विनायक से पहले एक शख्स उनकी जरुरतों का ध्यान रखता था। लेकिन भय्यूजी की शादी के बाद वो उनसे अलग हो गया। विनायक कुछ ही बरसों में भय्यूजी महाराज के सबसे भरोसेमंद लोगों में शामिल हो गए। औऱ फिर भय्यूजी ने विनायक को सारी जिम्मेदारियां सौंप दी। 

ये भी पढ़ें-ं रानी दुर्गावती विवि की छात्रा पर 3 युवकों ने किया चाकू से हमला

विनायक पर दिवंगत भय्यूजी महाराज को इतना भरोसा था कि उनकी जिंदगी से जुड़ी हर बात विनायक को पता होती थी. उनके हर फैसले में विनायक सहभागी होते थे. महाराज भी उनकी बात का आदर करते थे. भय्यूजी महाराज को बेहद नजदीक से जानने वाले लोग बताते हैं कि उनके निवेश की बात हो या किसी को आर्थिक मदद दिए जाने की, किसी प्रोजेक्ट पर खर्च होने वाली राशि हो या फिर दान में मिलने वाली राशि, विनायक ही अकेले शख्स हैं, जिन्हें हर बात की जानकारी होती थी।

ये भी पढ़ें- भय्यूजी महाराज पंच तत्व में विलीन, नेता-मंत्री सहित भक्तों ने दी अंतिम विदाई, देखिए वीडियो

गौरतलब है कि भय्यूजी ने मंगलवार को खुद को गोली मारकर आत्महत्या कर ली थी। मौके से मिले सुसाइड नोट में भय्यूजी ने तनाव के चलते आत्महत्या करने का जिक्र किया था। उनके सुसाइड करने के वक्त घर में बुजुर्ग मां के अलावा विनायक भी मौजूद थे।

भय्यूजी महाराज के सुसाइड नोट के एक हिस्से में लिखा गया है कि वह भारी तनाव से तंग आने के कारण जान दे रहे हैं, जबकि इसके पिछले हिस्से में उन्होंने अपने उत्तराधिकार को लेकर उनके एक खास सेवादार पर भरोसा जताया, जो पिछले 15 साल से उनसे जुड़ा है। 

मामले की जांच कर रहे डीआईजी हरिनारायणचारी मिश्र ने हत्या के अटकलों को खारिज किया है। उन्होंने कहा, मौके से मिले पक्के सबूतों और मामले की शुरुआती जांच के आधार पर हमें रत्ती भर भी संदेह नहीं है कि भय्यूजी महाराज ने खुद को गोली मारकर जान दी। घटना का स्वरूप और इसकी प्रकृति एकदम स्पष्ट है। उन्होंने खुदकुशी का बड़ा कदम क्यों उठाया, इसकी अलग-अलग पहलुओं पर विस्तृत जांच की जा रही है।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News