यूएन की रिपोर्ट के बाद डीआईजी नक्सल का बयान- 4-5 सालों में कम बच्चे माओवादियों से जुड़े

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 03 Jul 2018 11:13 AM, Updated On 03 Jul 2018 11:13 AM

रायपुर। संयुक्त राष्ट्र महासचिव के बयान के बाद छत्तीसगढ़ के डीआईजी नक्सल ऑपेशन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बताया कि बीते 4-5 सालों में नक्सलियों के साथ बहुत कम बच्चे जुड़े हैं। डीआईजी के मुताबिक ये खुलासा खुद नक्सलियों ने किया है। डीआईजी ने बताया कि नक्सलियों में शामिल बच्चों को छुड़ाने और उनकी शिक्षा की तैयारी व्यापक स्तर पर की जा रही है।

ये भी पढ़ें- मुंबई के अंधेरी में गिरा फुटओवर ब्रिज का हिस्सा, पांच घायल

डीआईजी के मुताबिक नक्सली बच्चों का ब्रेनवॉश कर उन्हें पुलिस और प्रशासन के खिलाफ भड़काते हैं और उनसे आईईडी प्लांट करने और सुरक्षा बलों से लड़ने के लिए उनका इस्तेमाल करते हैं। नक्सलियों में शामिल बच्चों को छुड़ाने और उन्हें मुख्यधारा में जोड़ने का काम तेजी से किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- नक्सलियों ने की अगवा ठेकेदार की हत्या, विरोध में दोरनापाल बंद

आपको बतादें हालहीं में संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुतेरस ने बयान दिया था की कश्मीर में सकिय आतंकी समहूों की तरह छत्तीसगढ़ और झारखंड में नक्सली बच्चों की भर्ती कर रहे हैं। यूएन महासचिव ने भारत सरकार से बच्चों को जो लोग भर्ती कर रहे हैं उनके खिलाफ कार्रवाई करने का आग्रह किया था।

ये भी पढ़ें-किसान और कई मुद्दों को लेकर विधानसभा का घेराव करेगी कांग्रेस,सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप

रिपोर्ट में कहा गया है, 'संयुक्त राष्ट्र को नक्सलियों द्वारा लगातार बच्चों की भर्ती और उनके इस्तेमाल पर रिपोर्ट मिल रही है। खास तौर से छत्तीसगढ़ और झारखंड में नक्सली ऐसा कर रहे हैं। झारखंड में बच्चों को जबरन भर्ती करने के लिए नक्सली कथित रूप से लाटरी प्रणाली का इस्तेमाल करते हैं। 

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Naxal Revealed:

ibc-24