IBC-24

चिकन खाने को लेकर बढ़ा विवाद तो बेटे ने कर दी पिता की हत्या

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 08 Jul 2018 02:20 PM, Updated On 08 Jul 2018 02:20 PM

रायपुर। रायपुर में एक बेटे ने अपने पिता की हत्या कर दी। घटना कबीर नगर थाना क्षेत्र के अटारी गांव की है। जहां 3 जुलाई की रात को चिकन खाने के विवाद ने इतना तूल पकड़ा कि। आरोपी बेटे मनीष निषाद ने अपने पिता के सिर पर पटिया से वार कर मौत के घाट उतार दिया और फरार हो गया। आनन-फानन में परिजन गंभीर रूप से घायल नंदकुमार को अंबेडकर अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे निजी अस्पताल ले जाने की सलाह दी। लेकिन आर्थिक स्थिति कमजोर होने के कारण परिजन वापस उसे घर लेकर चले गए। जहां 4 जुलाई को तड़के नंदकुमार ने दम तोड़ दिया। फिलहाल परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी बेटे की तलाश शुरू कर दी है।

पढ़ें- गुफा में फंसे फुटबॉल खिलाड़ियों को निकालने बनाई गई नई योजना,15 दिनों से गुफा में फंंसे हैं खिलाड़ी

जानिए पूरा मामला-

कबीर नगर थाना पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक अटारी गांव निवासी मनीष निषाद को नानवेज पसंद नहीं था घटना के दिन जब रात में खाना खाने के लिए बैठा तो उसने देखा उसका पिता नंदकुमार निषाद बड़े ही चाव से चिकन खा रहा है। इस बात से वह नाराज हो गया। मनीष की मां पड़ोस से बेटे के लिए दाल लेने चली गई। इसी बीच पिता पुत्र के बीच तू-तू मैं-मैं हुई और गुस्से में आकर मनीष ने आंगन में पड़े लकड़ी का पटिया उठाया और खाना खा रहे अपने पिता के सिर पर तीन-चार वार कर दिया जिससे नंदकुमार लहूलुहान होकर लुढ़ककर गिर गया। इसे देख मनीष की बहन ने तुरंत अपने बड़े और मंझले भाई को बुला लिया।

ये भी पढ़ें- सर्वे के बाद भी निगम को नहीं मिले 6 हजार 5 सौ 66 BPL परिवार..

मंझला भाई मिथलेश ने मनीष को पकड़कर रखा था, लेकिन वह अपने भाई की पकड़ से किसी तरह छुड़ाकर भाग निकला। परिवार वालों ने रात में एंबुलेंस बुलाकर नंदकुमार को अंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया जहां डॉक्टरों ने गंभीर स्थिति को देखते हुए निजी अस्पताल में ले जाने की सलाह दी। परिजनों ने नंदकुमार का उपचार कराने शंकर नगर के एक निजी अस्पताल में लेकर गए। मरीज की गंभीर स्थिति  को देखते डॉक्टरों ने ऑपरेशन करने की बात कह लंबा-चौड़ा खर्च बताया। आर्थिक स्थिति कमजोर होने की वजह से परिजन इलाज का खर्च नहीं उठा पाए और मरीज को लेकर वापस घर लौट गए। इसी बीच चार जुलाई को तड़के नंदकुमार ने रास्ते में दम तोड़ दिया। हत्या की बात छिपाने परिजनों ने उसी दिन नंदकुमार का दाह संस्कार भी कर दिया। गांव में तरह-तरह की चर्चा होने के बाद मनीष के भाई मिथलेश थाना पहुंचकर पुलिस को घटनाक्रम की जानकारी दी और अपने भाई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई.। फिलहाल पुलिस ने मामला दर्जकर आरोपी पुत्र की तलाश शुरू कर दी है।

 

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Crime News:

ibc-24