IBC-24

बुराड़ी कांड-पोस्टमार्टम रिपोर्ट में सामने आई मौत की सच्चाई

Reported By: Renu Nandi, Edited By: Renu Nandi

Published on 11 Jul 2018 10:53 AM, Updated On 11 Jul 2018 10:53 AM

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली की सबसे बड़ी मौत की मिस्ट्री बुराड़ी कांड में पुलिस को दस लोगों की मौत के सच का पता चल गया है।पुलिस को मंगलवार देर रात भाटिया परिवार के दस लोगों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिल गई है।पोस्टमार्टम में से बात सामने आई है कि बुराड़ी परिवार के दस लोगों की मौत फांसी लगने से हुई है। जबकि ग्यारहवी सदस्य और परिवार की बुजुर्ग मां नारायणी देवी की पोस्टमार्टम रिपोर्ट अभी नहीं मिली है।

 

 

इस मामले में अपराध शाखा के वरिष्ठ अधिकारी का कहना है कि भाटिया परिवार के 11 में से दस लोगों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट आ गई है जिसमे हत्या जैसी कोई बात सामने नहीं आ रही है किसी के भी शरीर में चोट जैसे कोई निशान नहीं  थे। इस मामले में अब पुलिस की कार्रवाई तेज होने की संभावना है। पुलिस एक-दो दिन में 11 लोगों के विसरा को भी फोरेंसिक जांच के लिए भेज देगी।

ये भी पढ़ें -हनीप्रीत को जेल में याद आया परिवार, मांगी फोन की सुविधा

 इसके साथ ही पुलिस अपनी जाँच का दायरा बढ़ाते हुए  मौत की गुत्थी लिखने वाले रजिस्टर की हैंडराइटिंग को भी परिवार के सदस्यों से मिलाने की कोशिश में है।

इसके तहत अब पुलिस  हैंडराइटिंग के नमूने एकत्र करना शुरू कर दी है। पुलिस ने बुराड़ी स्थित एक स्कूुल, बैंक और तिमारपुर स्थित स्कूल को हैंडराइटिंग के नमूने लेने के लिए पत्र लिख दिया है। तिमारपुर स्थित स्कूल में भाटिया परिवार के बच्चे शिवम और ध्रुव पढ़ते थे। पुलिस ने प्रियंका के कार्यालय में भी पत्र लिखकर हैंडराइटिंग के नमूने मांगे हैं। 

ये भी पढ़ें - बलरामपुर में 11 तो पत्थलगांव में 9 हाथियों के दल ने डाला डेरा, दहशत रतजगा करने को मजबूर ग्रामीण

यह भी चर्चा है कि पुलिस को एक सबूत हाथ लगा है जिसके तहत एक गुमनाम पत्र प्राप्त हुआ है जिसमे लिखा है कि बुराड़ी परिवार बीड़ी वाले बाबा से कराला में मिलता था। जिन्हे उस आदमी ने कई बार आते-जाते देखा है। पत्र भेजने वाले ने खुद को कराला का निवासी बताया है।हालांकि पुलिस ने अभी इस बात की पुष्टि नहीं की है। 

 

Web Title : Burari Case:

ibc-24