News

ईरान ने भारत को दी विशेषाधिकार खत्म करने की चेतावनी ..ये है वजह

Created at - July 11, 2018, 4:25 pm
Modified at - July 11, 2018, 4:25 pm

ईरान ने भारत को चेतावनी दी है। भारत अगर ईरान से आयात किए जाने वाले तेल में कटौती करने के लिए सऊदी अरब, रूस, ईराक और यूएस व अन्य देशों का रुख करता है तो ईरान भारत को दिए विशेषाधिकार खत्म कर देगा।

ये पढ़ें- पाक में सिख पुलिस अफसर के साथ दुर्व्यवहार, घर से निकाला गया, वीडियो वायरल

ईरान की ये चेतावनी चाबहार बंदरगाह में वादे के मुताबिक निवेश ना करने और तेल के आयात में कटौती को लेकर चेतावनी दी गई है। ईरान ने कहा है कि अगर भारत यूएस के दबाव में आकर तेल के आयात में कमी करता हो तो फिर वह भारत को दिए गए विशेषाधिकार छीन लेगा। बता दें कि यूएस ने भारत समेत अन्य देशों से 4 नवंबर 2018 तक ईरान से तेल का आयात शून्य करने के लिए कहा है। ऐसा नहीं करने पर अमेरिका ने प्रतिबंध झेलने की चेतावनी दी है।

पढ़ें- सोनाली ने शेयर की अपने न्यू लुक की तस्वीर 

ईरान से बयान सामने आया है कि चाबहार बंदरगाह के विस्तार के लिए भारत वादे के मुताबिक निवेश करने में असफल रहा है। भारत से उम्मीद की जाती है कि वह इस संबंध में जरूरी कदम उठाएगा क्योंकि चाबहार बंदरगाह में उसका सहयोग और भागीदारी सामरिक रूप से महत्वपूर्ण है। चाबहार बंदरगाह भारत के लिए कारोबार से लेकर रणनीतिक तौर पर बेहद अहम है। ओमान की खाड़ी के इस बंदरगाह की मदद से भारत पाकिस्तान का रास्ता बचा कर ईरान और अफगानिस्तान के साथ व्यापार कर सकता है।

यूएस के ईरान से तेल आयात करने को लेकर लगाए गए प्रतिबंध की तरफ इशारा करते हुए ईरान ने कहा कि उनका देश भारत का विश्वसनीय ऊर्जा साझेदार रहा है और ईरान ने हमेशा से उपभोक्ताओं और आपूर्तिकर्ताओं के हितों को ध्यान में रखते हुए उचित कीमत में तेल की आपूर्ति की है।

ये पढ़ें- थाईलैंड की गुफा से सकुशल निकाल लिए गए सभी बच्चे और कोच

ईरान ने बयान दिया कि 'अगर भारत तेल आपूर्ति के लिए ईरान को सऊदी अरब, रूस, ईराक और यूएस से रिप्लेस करने की कोशिश करता है तो फिर उसे डॉलर से आयात करना होगा जिसका मतलब होगा कि भारत का चालू अकाउंट घाटा बढ़ेगा। इसके अलावा ईरान ने भारत को जो विशेष लाभ दिए हैं, वह भी वापस ले लेगा.' ईरान के वरिष्ठ राजदूत ने कहा कि दोनों देशों को रिश्ते को मजबूत करने के लिए कोशिश करनी होगी और इसके लिए मजबूत राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत होगी।

ये पढ़ें-ं करण जौहर ओशो पर बनाएंगे बायोपिक, आमिर हो सकते मुख्य भूमिका में

गौरतलब है कि ईरान के पास दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा प्राकृतिक गैस भंडार है। इराक और सऊदी अरब के बाद ईरान भारत का तीसरा सबसे बड़ा तेल आपूर्तिकर्ता देश है। वित्त वर्ष 2017-18 के पहले 10 महीनों में ईरान ने भारत को 1.84 करोड़ टन कच्चा तेल दिया था। यह आंकड़ा अप्रैल, 2017 से जनवरी 2018 के बीच का है।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News