रायपुर News

जान से कीमती एंबुलेंस का शीशा, तोड़ने दिया जाता तो बच जाती बच्ची की जान, FIR

Created at - July 18, 2018, 8:58 am
Modified at - July 18, 2018, 9:29 am

रायपुर। रायपुर में एंबुलेंस की लापरवाही से एक बच्ची की मौत के मामले में संजीवनी एक्सप्रेस के सीईओ विक्रम सिंह के खिलाफ FIR दर्ज की गई है। रायपुर के मौदहापारा थाने में CMHO केएस शांडिल्य की रिपोर्ट पर ये FIR दर्ज की गई है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से मुख्य चिकित्सा अधिकारी केएस शांडिल्य ने संजीवनी एक्सप्रेस के सीईओ विक्रम सिंह के खिलाफ कल शाम को लिखित शिकायत दर्ज कराई।

पढ़ें- नोएडा में दो इमारतें धराशायी, 3 की मौत, मलबे में कई लोगों के दबे होने की आशंका

जिसमें CMHO ने कहा है कि संजीवनी एक्सप्रेस का आपातकालीन सेवा के लिए है, इसलिए वाहन का रखरखाव सही ढंग से होना चाहिए। मंगलवार को जिस संजीवनी वाहन में बच्ची को गंभीर हालत में लाया गया था, उसका पिछला दरवाजा नहीं खुला। जैसे-तैसे दरवाजा खोला गया, लेकिन तब तक बच्ची की मौत हो गई थी। संजीवनी एक्सप्रेस प्रबंधन की घोर लापरवाही मानते हुए इसके संचालक विक्रम सिंह को दोषी माना गया है। पुलिस का कहना है कि फिलहाल विक्रम सिंह के खिलाफ FIR दर्ज की गई है और जांच के बाद मामले में और भी धाराएं बढ़ सकती हैं। 

पढ़ें- रूसी महिला अमेरिका में जासूसी के आरोप में गिरफ्तार

मंगलवार दोपहर 2 माह के बच्चे की मौत हो गई। बच्चे के परिजन उसके इलाज के लिए बिहार से लेकर आए थे। संजीवनी एम्बुलेंस से बच्चे को आंबेडकर अस्पताल लाया गया लेकिन 2 घंटे तक एम्बुलेंस का दरवाजा ही नहीं खुला, नतीजतन ऑक्सीजन न मिलने की वजह से बच्चे की मौत हो गई। जब परिजनों ने एम्बुलेंस का शीशा तोड़कर बच्चे को बाहर निकालना चाहा तो चालक ने उन्हें सरकारी संपत्ति को नुकसान न पहुंचाने का हवाला देते हुए रोक दिया।

बताया जा रहा है कि बिहार के गया निवासी अंबिका सिंह की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और उनके दो माह के बच्चे के दिल में छेद था। वे बच्चे को लेकर दिल्ली एम्स गई थीं, लेकिन वहां इलाज का खर्च ज्यादा बताया गया। उन्हें किसी ने सलाह दी कि वे छत्तीसगढ़ जाएं, वहां सरकारी योजना के तहत नया रायपुर स्थित सत्य साईं अस्पताल में मुफ्त में इलाज होता है।

पढ़ें- ‘मुस्लिमों की पार्टी’ विवाद पर बोले राहुल गांधी- मैं कांग्रेस हूं, मेरे लिए जाति-धर्म मुद्दा नहीं

वे बच्चे को लेकर ट्रेन से रायपुर पहुंचीं और 108 संजीवनी एम्बुलेंस से सत्य साईं अस्पताल जा रही थीं, इसी दौरान बच्चे की तबियत ज्यादा खराब हो गई। इस पर परिजनों ने एम्बुलेंस चालक से किसी नजदीकी सरकार अस्पताल चलने के लिए कहा तो चालक उन्हें आंबेडकर अस्पताल ले आया। यहां आने पर जब एम्बुलेंस से उतरने की कोशिश कि तो एम्बुलेंस का दरवाजा ही नहीं खुला। दरवाजा खोलने में 2 घंटे लग गए लेकिन तब तक बच्चे की मौत हो चुकी थी। 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News