बस्तर News

एंबुलेंस चालक की लापरवाही, प्रसव के बाद महिला और नवजात को तेज बारिश के बीच जंगल में छोड़ा

Created at - July 18, 2018, 11:34 am
Modified at - July 18, 2018, 11:34 am

भानुप्रतापपुर। एंबुलेंस चालक की एक और लापरवाही से प्रसूता और नवजात की जान पर बन आई।  भानुप्रतापपुर में महतारी 102 एंबुलेंस चालक ने प्रसव के बाद महिला और उसके नवजात को तेज बारिश के बीच जंगल के बीचो-बीच छोड़कर चला गया। चालक की इस लापरवाही से नवजात की जान पर बन आती। हालांकि प्रसूता के साथ एक और महिला मौजूद थी। 

पढ़ें- इनामी नक्सली जरीना मुठभेड़ में ढेर, पुलिस और ITBP की संयुक्त कार्रवाई

गौरतलब है मंगलवार को इसी तरह एंबुलेंस 108 के चालक की लापरवाही के चलते राजधानी रायपुर में दो महीने की मासूम बच्ची की मौत हो गई थी। एंबुलेंस का दरवाजा नहीं खुलने के कारण दम घुटने से मासूम ने दम तोड़ दिया। बच्ची को दिल्ली से रायपुर के सत्य साई अस्पताल लाया जा रहा था। बच्ची के दिल में छेद होने से उसे सांस लेने में तकलीफ हो रही थी।

पढ़ें- जान से कीमती एंबुलेंस का शीशा, तोड़ने दिया जाता तो बच जाती बच्ची की जान, FIR

एंबुलेंस से अस्पताल ले जाते वक्त बच्ची की तबीयत बिगड़ने लगी तो उसे नजदीक के अस्पताल में ले जाया गया लेकिन एंबुलेंस का दरवाजा नहीं खुला। दो घंटे बीत जाने के बाद परिजनों ने एंबुलेंस का शीशा तोड़ना चाहा लेकिन चालक सरकारी संपत्ति होने का हवाला देकर मासूम को एंबुलेंस के भीतर तड़पने छोड़ दिया। जैसे-तैसे मासूम को निकाला गया तब तक देर हो चुकी थी। परिजनों के शिकायत के बाद संजीवनी 108 के सीईओ के खिलाफ एफआईआर दर्ज किया गया है। 

 

वेब डेस्क, IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News