IBC-24

5 लाख के इनामी नक्सली दंपत्ति का सरेंडर,एलेक्स पॉल मेनन के अपहरण में थे शामिल

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 02 Aug 2018 08:43 AM, Updated On 02 Aug 2018 08:43 AM

रायपुर। साउथ बस्तर सुकमा, केरलापाल इलाके में सक्रिय केरलापाल एरिया कमेटी सदस्य रवि उर्फ रव्वा सन्ना उर्फ रविन्दर ने अपनी पत्नी केरलापाल कमेटी अंतर्गत क्रांतिकारी आदिवासी महिला संघ अध्यक्ष माड़वी बुधरी उर्फ रीना के साथ एसआईबी मुख्यालय रायपुर में आत्मसमर्पण किया है आत्मसमर्पित दंपत्ति पांच-पांच लाख रुपए के  इनामी नक्सली होना बाताए जा रहे हैं।

पढ़ें- अमित शाह ने कहा- अनुमति मिले न मिले कोलकाता जरुर जाऊंगा, पुलिस ने कहा- रैली को पहले ही मंजूरी

नक्सली दंपत्ति के आत्मसमर्पण की जानकरी स्पेशल डीजी एंटी नक्सल आॅपरेशन डीएम अवस्थी ने प्रेस कान्फ्रेंस में दी। साल 2013 में सुकमा कलेक्टर रवि एलेक्स पॉल मेनन के अपहरण के साजिश में शामिल दंपत्ति वर्ष 2008 से नक्सली दलम के सदस्य बने। आत्मसमर्पित रवि ने बताया कि नक्सलियों ने सलवा जुडूम कैंप से उठाकर अपने साथ ले गए थे, रवि मूलत: सुकमा का रहने वाला है। रवि ने पुलिस को बताया है कि उसे बस्तर डिवीजन के तत्कालीन डीव्हीएस आकाश जो अभी जेल में है ने जल,जंगल और जमीन की रक्षा के नाम पर ब्रेन वॉश कर संघम सदस्य बना लिया था। 

पढ़ें- थानेदार कई महीनों से कर रहा था नाबालिग से दुष्कर्म, परिजनों को दूसरे कमरे में रखता था बंद

रवि के मुताबिक वह 2008 से 2010 तक माओवादियों के साथ  मिलीशिया सदस्य के रूप में कार्य किया। उसके बाद उसे 2010 से 2018 तक केरलापाल एलजीएस डिप्टी कमांडर के रूप में कार्य किया। इस बीच उसे हथियार के रूप में पहले 303 बोर का रायफल दिया गया। उसके बाद उसे एसएलआर दिया गया। स्पेशल डीजे के मुताबिक रवि को मार्च 2011 में किस्टाराम के दुलोड़ी में, अक्टूबर 2012 में सालातोंगा और नवंबर 2014 में केरलापाल एरिया के गोगुण्डा पाहड़ी में माओवादियों द्वारा चलाए जाने वाले ट्रेनिंग सेंटर में ट्रेनिंग दी गई है।

पढ़ें- लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे का सर्विस रोड धंसा, 50 फीट नीचे गिरी कार, बाल-बाल बचे लोग

आत्मसमर्पित नक्सली के मुताबिक रीना से उसकी शादी वर्ष 2012 में हुआ। शादी के एक वर्ष के बाद रीना मां बनी और एक बच्चे के जन्म दिया। इसके बाद वर्ष 2016 में रीना दूसरी बार मां बनी। गोलीबारी के बीच बच्चों की  किलकारियों ने रीना के मन को बदल दिया औरर वह अपने पति के ऊपर आत्मसमर्पण करने दबाव बनाने लगी। वहीं रवि को भी लगे लगा कि वह जिनके खिलाफ आदिवासियों को हक दिलाने लड़ रहा है। वही सरकार गांव में सड़कों का विस्तार कर रही है और गरीबों के लिए योजना बना रही है। इससे उसका भी मन बदल गया और दोनों दंपत्ति आत्मसमर्पण करने का मन बनाया। 

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Naxal Surrender:

ibc-24