News

मरीना बीच पर दफनाए गए करुणानिधि, उमड़ा जनसैलाब, नम आंखों से श्रद्धांजलि देने पहुंचे लोग

Created at - August 9, 2018, 4:53 pm
Modified at - August 9, 2018, 4:53 pm

11 दिन तक अस्पताल में जीवन और मृत्यु के बीच चले संघर्ष के बाद 94 साल के सफर को विराम देते हुए एम करुणानिधि मंगलवार की शाम को आखिरी सांस ली,पूर्व मुख्यमंत्री और डीएमके प्रमुख एम करुणानिधि की पार्थिव देह को चेन्नई की मरीना बीच पर दफनाया गया है।वहीं उनके राजनीतिक गुरु अन्नादुराई के समीप दफनाया गया है. अंतिम संस्कार से पहले राजाजी हॉल से उनकी शवयात्रा निकाली गई जिसमें लाखों की संख्या में लोग शामिल हुए।

ये भी पढ़ें : कांग्रेस का आरोप- शिवराज सरकार में भी मुजफ्फरपुर शेल्टर होम जैसा केस, भाजपा ने ये कहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करूणानिधि को पुष्पचक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की, पीएम मोदी कुछ देर तक दिवंगत नेता की पत्नी राजति अम्मल से बातें करते रहें, इस दौरान माकपा महासचिव सीताराम येचुरी, केरल के पूर्व मुख्यमंत्री ओमान चांडी और माकपा नेता प्रकाश करात, पूर्व प्रधानमंत्री एच. डी. देवेगौड़ा, राहुल गांधी, कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद, केन्द्रीय मंत्री पोन राधाकृष्णन समेत उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्य मंत्री अखिलेश यादव भी अंतिम यात्रा में मौजूद थे, करुणानिधि का अंतिम संस्कार राजकीय सम्मान के साथ किया गया, मरीना बीच पर दिवंगत नेता को पुष्प चक्र अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई।

ये भी पढ़ें : आदिवासी दिवस के अवसर पर प्रतिभाओं का सम्मान, मलखंब ने मोहा सीएम का मन

वहीं पार्टी समर्थकों का अपने नेता के अंतिम दर्शन के लिए राजाजी हॉल के बाहर भारी मात्रा में भीड़ मौजूद रही, इस दौरान पुलिस को भीड़ पर काबू के लिए लाठीचार्ज भी करना पड़ा, इस दौरान मची भगदड़ में कम से कम दो लोगों की मौत हो गई और 26 लोग घायल हुए है।

ये भी पढ़ें : बीसीसीआई को राहत, सुप्रीम कोर्ट ने एक राज्य एक वोट में किया बदलाव

डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन पार्टी कार्यकर्ताओं और समर्थकों से शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील की, स्टालिन ने इसके साथ कहा, 'पुलिस हमें सुरक्षा दे या नहीं, लेकिन मैं निवेदन करता हूं कि शांति व्यवस्था बनाए रखें।

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps