News

रमन ने मजदूरों का मुंह मीठा कराकर किया टिफिन योजना का आगाज

Created at - August 10, 2018, 4:15 pm
Modified at - August 10, 2018, 4:15 pm

रायपुर। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज राजधानी रायपुर के इंडोर स्टेडियम में मुख्यमंत्री मनरेगा टिफिन वितरण योजना का आगाज किया। कार्यक्रम में कुछ मजदूरों को प्रतीक स्वरूप टिफिन का वितरिण किया गया।सीएम ने टिफिन वितरण कर मजदूरों का मुंह भी मीठा कराया। इस योजना के तहत राज्य के 10 लाख 83 हजार मनरेगा मजदूरों को टिफिन वितरण किया जा रहा है। टिफिन वितरण के लिए नागपुर की एक कंपनी को इसका कॉन्ट्रैक्ट दिया गया है। कंपनी एक महीने के अंदर मजदूरों को टिफिन बांटेगी। 

पढ़ें- मूक-बधिर बच्चियों से रेप के बाद शिवराज सख्त,कहा-नहीं बख्शे जाएंगे आरोपी,बनेंगे नए नियम

कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री अजय चन्द्राकर, कृषि एवं जल संसाधन मंत्री बृजमोहन अग्रवाल, खाद्य मंत्री पुन्नूलाल मोहले, लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत, छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम के अध्यक्ष देवजी भाई पटेल, छत्तीसगढ़ राज्य भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण मंडल के अध्यक्ष  मोहन एंटी, रायपुर नगर निगम के सभापति  सुभाष तिवारी, मुख्य सचिव  अजय सिंह, पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अपर मुख्य सचिव  आर.पी. मंडल और सचिव  पी.सी. मिश्रा इस अवसर पर उपस्थित थे।

पढ़ें- कार-स्कूटी में टक्कर के बाद स्कूटी सवार युवकों ने कार में लगाई आग ..देखें वीडियो

सीएम ने इस दौरान कहा कि छोटी-छोटी योजनाओं के माध्यम से राज्य सरकार का प्रयास गरीबों और मजदूरों के जीवन में खुशहाली लाने का है। गरीबों और मजदूरों के लिए स्मार्ट फोन, टिफिन, चरण पादुका, पक्का मकान, हर घर बिजली जैसी योजनाएं उनके स्वाभिमान से जुड़ी योजनाएं हैं। जो स्मार्ट फोन मुख्यमंत्री और राज्य सरकार के मंत्रियों के हाथ में है वही स्मार्ट फोन अब छत्तीसगढ़ के गरीबों, मजदूरों, महिलाओं और युवाओं के हाथों में होगा। हर व्यक्ति के आवागमन के लिए पक्की सड़क, घर के नजदीक स्कूल और कॉलेज की व्यवस्था उपलब्ध कराने की जिम्मेदारी राज्य सरकार पूरा करने का हर संभव प्रयास कर रही है।

पढ़ें- राहुल गांधी पहुंचे रायपुर, उनके आगमन पर ये नेता और रिटायर्ड आईपीएस करेंगे कांग्रेस प्रवेश

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम में बताया कि वे पिछले साल ग्राम सुराज अभियान में बिलासपुर जिले के सुदूर अंचल के एक गांव में मनरेगा का काम देखने पहुंचे थे, वहां मजदूर पेड़ की छांव में भोजन कर रहे थे। मजदूर बर्तन में, पोटली और प्लास्टिक में घर से भोजन लेकर आए थे। मुझे भी खाने की इच्छा हुई, एक महिला मजदूर ने अपने टिफिन से मुझे भी दाल-भात और चटनी दी। यहीं मेरे मन में मजदूरों के लिए टिफिन योजना प्रारंभ करने का विचार आया। इस योजना का आज शुभारंभ हो रहा है। टिफिन में मजदूरों के भोजन की सुरक्षा और शुद्धता सुनिश्चित हो सकेगी। स्वच्छ भोजन से बीमारियों से भी मजदूर दूर रहेंगे। 

 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

IBC24 SwarnaSharda Scholarship 2018

Related News