रायपुर News

नाले के गंदे पानी से रसोई गैस बनाने का फार्मूला, मोदी ने की रायपुर के श्याम राव की तारीफ

Created at - August 14, 2018, 10:37 am
Modified at - August 14, 2018, 1:27 pm

रायपुर। रायपुर में रहने वाले एक शख्स श्याम राव शिर्के ने देसी स्टाइल में एक ऐसा उपकरण तैयार किया है, जो नालियों और नालों से निकलने वाली मीथेन गैस को रसोई गैस की तर्ज पर उपयोग करने में मदद करता है। इस उपरकण के सहारे कोई भी गैस चूल्हा लगाकर मीथेन गैस का उपयोग खाना बनाने के लिए कर सकता है। श्याम राव शिर्के के इस प्रोजेक्ट की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी तारीफ की है। इस प्रोजेक्ट को श्याम राव शिर्के ने ग्लोबल पेटेंट भी कराया है। जल्द ही इसे रायपुर के कुछ चुनिंदा नालों और नालियों में स्थापित किया जाएगा।

पढ़ें- जेएनयू छात्र नेता उमर खालिद पर फायरिंग, सीसीटीवी में कैद हुआ हमलावर

रायपुर के चंगोराभाठा इलाके में रहने वाले 60 वर्षीय श्याम राव शिर्के का नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जुबान पर है। शिर्के द्वारा बनाई गई इस मशीन में प्लास्टिक के तीन ड्रमों अथवा कंटेनर को आपस में जोड़ कर उसमें एक वॉल्व लगा दिया जाता है। ये तीनों कंटेनर नदी नाले या नालियों के ऊपर उस स्थान पर रखा जाता है, जहां से बदबूदार पानी गुजरता है गंदगी कंटेनर में समा ना जाए इसके लिए नीचे की ओर एक जाली लगाई जाती है। दरअसल इस मशीन को इस तर्ज पर फिट किया जाता है कि ड्रम अथवा कंटेनर में इकठ्ठा होने वाली गैस का इतना दबाव बन सके, जिससे वो पाइप लाइन के जरिये उस स्थान पर पहुंच जाए जहां रसोई गैस का चूल्हा रखा है। उनके मुताबिक कंटेनर में इकठ्ठा होने वाली गैस की मात्रा नदी नाले की लंबाई, चौड़ाई और गहराई पर निर्भर करती है। उनके मुताबिक रायपुर में जिस स्थान पर उन्होंने इस उपकरण को लगाया था उस घर में लगातार तीन चार माह तक एक दर्जन से ज्यादा व्यक्तियों का सुबह का नाश्ता, दोपहर और रात का भोजन बन जाया करता था।

श्याम राव शिर्के पेशेवर इंजीनियर नहीं हैं और ना ही उनके पास कोई इंजीनियरिंग की डिग्री है। वे 11वीं पास हैं। आय का कोई विशेष साधन नहीं है। उनकी आजीविका मैकेनिकल कॉन्ट्रैक्टरशिप पर निर्भर है। हार्ट अटैक की वजह से वो अब पहले की तरह सक्रिय नहीं है। लेकिन, इंजीनियरिंग इनोवेशन की धुन उनके सिर पर इस तरह सवार रहती है कि वो कोई ना कोई ऐसा उपकरण ईजाद करने में जुटे रहते हैं। आर्थिक स्थिति ख़राब होने के बावजूद श्याम राव शिर्के ने अपने इस हुनर को उम्र के इस पड़ाव में भी जीवित रखा। चार साल पहले उन्होंने अपने इस प्रोजेक्ट को पूरा किया और पेटेंट करवाने का प्रयास किया। श्याम राव के मुताबिक, उन्हें इस बात की खुशी है कि उनका मॉडल पेटेंट हो चूका है और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संज्ञान में भी आ चुका है।

पढ़ें- बीजेपी ने विधि आयोग को दिया 'एक देश एक चुनाव' के पक्ष में हलफनामा, कांग्रेस ने ली चुटकी

श्याम राव शिर्के के मुताबिक उनका यह प्रोजेक्ट वातावरण में फैलने वाली बदबू ही नहीं बल्कि कई तरह के कीट पतंगों को पैदा होने से भी रोकेगा। छत्तीसगढ़ काउंसिल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी ने इस प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए अपनी तैयारी भी शुरू कर दी है। वहीं श्यामराव के परिवार में 2 बेटे और एक बेटी है, आर्थिक तंगी के बावजूद उन्होंने अपने बच्चों को उच्च शिक्षा दिलवाई उसके बावाजूद परिवार कभी बाधक नहीं बना बल्कि उनके इस काम में पुरा सहयोग देते रहे। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा किये गये जिक्र करने मात्र से पुरे परिवार में खुशी की लहर दौड गई है। कम पढे लिखे श्यामराव के इस अविष्कार से इस बात को बल मिलता है कि आदमी में अगर कुछ कर गुजरने की चाहत है तो कोई चीज बाधक नहीं बन सकती।

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News