केरल में बाढ़ से बदतर हुए हालात, 67 पहुंचा मौत का आंकड़ा, पीएम ने कहा- हर संभव मदद की जाएगी

Reported By: Abhishek Mishra, Edited By: Abhishek Mishra

Published on 16 Aug 2018 09:26 AM, Updated On 16 Aug 2018 09:26 AM

नई दिल्ली। केरल में बाढ़ से हालात बदतर होते जा रहे हैं। सप्ताहभर में मौत का आंकड़ा 67 पहुंच गया है। पेरियाद नदी का पानी एयरपोर्ट के भीतर तक जाने की वजह से कोच्चि एयरपोर्ट को शनिवार 18 अगस्त दोपहर तक बंद कर दिया गया है। बाढ़ से कई लोग बेघर हो गए हैं। सड़कें, घर, बिल्डिंग्स कई इलाके पानी में समा गए हैं। केरल में भारी बारिस और बाढ़ के चलते नदियों का जलस्तर लगातार बढ़ने की वजह से पूरे राज्य की सभी 33 बांधों के गेट खोलने पड़े हैं। 

पढ़ें- 10 घंटे के रेस्क्यू के बाद सुल्तानगढ़ झरने में बहे 45 लोगों को बचाया गया

राज्य के त्रिशूर, एर्नाकुलम, अलप्पुझा, वायनाड, कोझिकोड और इडुक्की जिलों में सबसे ज्यादा तबाही मची है। सेना और नौसेना के साथ एनडीआरएफ की 14 टीमें लगातार लोगों की मदद कर उन्हें सुरक्षित जगहों पर पहुंचाने का काम कर रही है।

पढ़ें- कांकेर में झमाझम बारिश का कहर, नदी-नाले भी उफान पर, तालाब फूटने से घर और दफ्तर लबालब

मूसलाधार बारिश और बाढ़ में दो हजार से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचा है। पूरे राज्य में 718 राहत कैंप खोले गए हैं, जिनमें 85 हजार 398 लोगों को पहुंचाया गया है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने केरल के हालात को लेकर वहां के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन से बातचीत की। पीएम मोदी ने कहा कि इस मुश्किल घड़ी में केंद्र सरकार केरल के लोगों के साथ मजबूती से खड़ी है। साथ ही हर जरूरी सहायता मुहैया कराने को तैयार है। 67 मौतों में से मयप्पुरम में 17, इडुक्की में 16 और त्रिरुवनंतपुरम में सात लोगों की मौत हुई है। इसके अलावा छह लोग लापता बताए जा रहे हैं।

 

वेब डेस्क, IBC24

Web Title : Keral Flood:

ibc-24