News

तीन तलाक बिल को मोदी कैबिनेट की मंजूरी,शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी बोले-महिलाओं की हुई जीत

Created at - September 19, 2018, 1:37 pm
Modified at - September 19, 2018, 1:37 pm

नई दिल्ली। मोदी कैबिनेट ने तीन तलाक बिल को मंजूरी दे दी ही। यह अध्यादेश 6 महीने तक लागू रहेगा। तीन तलाक बिल को संसद के दोनों सदनों में पास कराने में असफल रहने पर केंद्र सरकार ने अध्यादेश का रास्ता चुना है। बता दें कि लोकसभा से पारित होने के बाद यह बिल राज्यसभा में अटक गया था। कांग्रेस ने संसद में कहा था कि इस बिल के कुछ प्रावधानों में बदलाव किया जाना चाहिए। 

पढ़ें- राहुल ने कांग्रेसियों पर लाठीचार्ज को बताया मोदी सरकार की तानाशाही

सुप्रीम कोर्ट ने जनवरी 2017 में फैसला दिया था कि अध्यादेश लाने की शक्ति कानून बनाने के लिए समांतर ताकत नहीं है। कोर्ट ने कहा था कि किसी बिल के पास नहीं होने पर उसके लिए अध्यादेश लाना संविधान के साथ धोखाधड़ी है और इसलिए इसकी अनुमति नहीं दी जा सकती है।

पढ़ें- सीधी के बाद उज्जैन में शिवराज के काफिले पर पथराव, जमकर विरोध प्रदर्शन

तीन तलाक बिल का राज्यसभा में कड़ा विरोध हुआ था। विपक्षी नेताओं ने मांग की थी कि इस बिल को कड़े परीक्षण के लिए संसदीय समिति के पास भेजा जाना चाहिए। प्रस्तावित कानून पर बढ़ते विरोध को देखते हुए केंद्र सरकार ने इस मुद्दे पर सभी राज्य सरकारों से राय भी मांगी थी। ज्यादातर राज्य सरकारों ने इसका समर्थन किया था।

पढ़ें- एयरपोर्ट पर कांग्रेस नेता के पास मिले 13 कारतूस, राहुल गांधी के कार्यक्रम के लिए पहुंचे थे

इस बिल के तहत तुरंत तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) को अपराध की श्रेणी में रखा गया। अपनी पत्नी को एक बार में तीन तलाक बोलकर तलाक देने वाले मुस्लिम पुरुष को तीन साल की जेल की सजा हो सकती है। इस बिल में मुस्लिम महिला को भत्ते और बच्चों की परवरिश के लिए खर्च को लेकर भी प्रावधान है। इसके तहत मौखिक, टेलिफोनिक या लिखित किसी भी रूप में एक बार में तीन तलाक को गैर-कानूनी करार दिया गया है।

पढ़ें- 'इस देश में मुसलमान नहीं रहेंगे, तो ये हिंदुत्व नहीं होगा'

वहीं केंद्र सरकार के इस फैसले पर यूपी में शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने कहा कि महिलाओं की जीत हुई है। रिजवी ने कहा कि महिलाओं ने कट्टरपंथी तबके से टकराते हुए मामले को समाज में लाने काम किया और सुप्रीम कोर्ट तक गईं। कट्टरपंथी समाज के खिलाफ हिंदू और मुस्लिम समाज समेत सभी लोग पीड़ित महिलाओं के साथ हैं। रिजवी ने कहा कि अब हम परिवार में लड़कियों की हिस्सेदारी के लिए भी आगे लड़ाई लड़ेंगे। 

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News