News

रंजन गोगोई बने 46वें मुख्य न्यायाधीश, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिलाई शपथ

Created at - October 3, 2018, 12:19 pm
Modified at - October 3, 2018, 12:31 pm

नई दिल्ली। जस्टिस रंजन गोगोई देश के 46वें मुख्य न्यायाधीश बन गए। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गोगोई को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। चीफ जस्टिस गोगोई का कार्यकाल 17 नंवबर, 2019 तक रहेगा।

पढ़ें- शिवरतन शर्मा का बयान- एक दूसरे को निपटाने में लगे कांग्रेसी, गैंगवार की स्थिति

रंजन गोगोई का जन्म 18 नवंबर 1954 को हुआ था। वे अप्रैल 2012 से सुप्रीम कोर्ट के जज हैं। इससे पहले वे पंजाब और हरियाणा राज्य के चीफ जस्टिस रह चुके हैं। जस्टिस गोगोई 1978 से गुवाहाटी हाईकोर्ट में बतौर अधिवक्ता प्रैक्टिस करते थे। 2001 में वे जज बनें। 12 फरवरी 2011 में वे पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने थे। जस्टिस गोगोई 28 फरवरी 2001 को गुवाहाटी हाई कोर्ट के जज बने थे और 23 अप्रैल 2012 को सुप्रीम कोर्ट जज के रूप में शपथ ली। 

पढ़ें- रायपुर समेत देशभर के सैकड़ों लोगों से लाखों की ठगी, दो आरोपी गिरफ्तार

शपथ लेने के बाद न्यायमूर्ति गोगोई ने अपनी मां शांति गोगोई के पैर छूकर आशीर्वाद लिया। 18 नवंबर, 1954 को जन्मे न्यायमूर्ति गोगोई ने 1978 में वकालत पेशे की शुरुआत की थी। उन्होंने गौहाटी उच्च न्यायालय में संवैधानिक, कराधान और कंपनी मामलों में वकालत की। न्यायमूर्ति मिश्रा ने मुख्य न्यायाधीश के बाद के वरिष्ठतम न्यायाधीश के नाम की सिफारिश करने की परंपरा के अनुसार पिछले महीने के शुरू में ही न्यायमूर्ति गोगोई के नाम की सिफारिश अपने उत्तराधिकारी के तौर पर की थी।

 

वेब डेस्क, IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News