News

हुस्न की मल्लिका रेखा हुई 64 की ,जानें उनकी ज़िंदगी के कुछ अनछुए पहलू

Created at - October 10, 2018, 1:17 pm
Modified at - October 10, 2018, 1:17 pm

मुंबई। हुश्न की मल्लिका और बॉलीवुड की एवरग्रीन एक्ट्रेस रेखा गणेशन का आज जन्मदिन है।64 साल की हो गई रेखा की खूबसूरती आज भी बरकरार है उन्हें देखकर अभी भी कहा जा सकता है कि इनकी उम्र थम सी गई है। 

ज्ञात हो कि परसनल लाइफ  हो या  प्रोफेशनल लाइफ रेखा ने दोनों में संघर्ष ही किया है लेकिन इन सब के बाद उनके चेहरे की हसीं सदा बरकरार रही है। 10 अक्टूबर, 1954 को मद्रास (अब चेन्नई) में जन्मीं रेखा के पिता जेमनी गणेशन मशहूर तमिल अभिनेता और मां पुष्पावल्ली तेलुगू अभिनेत्री थीं. रेखा को अपने पिता से शुरुआत से ही कोई लगाव नहीं था. एक इंटरव्‍यू में रेखा ने कहा था, 'मेरे लिए 'फादर' शब्द का कोई अर्थ नहीं है. मेरे लिए 'फादर' का मतलब चर्च का 'फादर' है.' रेखा ने 1966 में तेलुगू फिल्म 'रंगुला रत्नम' से अभिनय की शुरुआत की थी. फिल्म में उन्होंने बाल कलाकार की भूमिका निभाई थी. रेखा को फिल्मों में आने में दिलचस्पी नहीं थी, लेकिन परिवार की आर्थिक स्थिति के कारण उन्हें अभिनय जारी रखना पड़ा.

साऊथ की फिल्मों के बाद जब रेखा मुंबई की ओर रुख करी तो  हिंदी फिल्मों में काम मिलना आसान नहीं था। सांवला रंग और लड़खड़ाती हिंदी के कारण रेखा को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा, लेकिन उन्होंने फिल्म 'सावन भादो' (1970) के साथ आगाज किया और रातोंरात मशहूर हो गईं.

हिंदी सिनेमा में अपने पैर जमाए रखने के लिए रेखा ने हिंदी और अपना रंग संवारने पर काफी मेहनत की. सांवली से गोरी होने के लिए रेखा ने योग का भी सहारा लिया। उनकी निजी ज़िंदगी में कई उतार चढ़ाव आये अपनी शादी और प्रेम प्रसंगो को लेकर रेखा हमेशा सुर्खियों में रही।  रेखा का नाम लंबे समय तक अमिताभ बच्चन के साथ जुड़ता रहा. दोनों की जोड़ी पर्दे पर भी काफी लोकप्रिय रही. दोनों ने 'ईमान धरम', 'गंगा की सौगंध', 'मुकद्दर का सिकंदर' और 'सुहाग' जैसी फिल्मों में साथ काम किया. यश चोपड़ा की 'सिलसिला' अमिताभ और रेखा की एक साथ आखिरी फिल्म थी.आज भी रेखा का मांग भरना अमिताभ की ज़िंदगी की सलामती से जोड़ा जाता है।

 

रेखा पर कई लोगो ने किताब लिखी सभी ने उनकी ज़िंदगी को अलग अलग एंगल से रखने की कोशिश कि उन पर लिखी  किताब में कई ऐसे किस्सों का जिक्र है जिनमें  में से एक है विनोद मेहरा से शादी का किस्सा. जब रेखा और विनोद कोलकाता में शादी करने के बाद मुंबई लौटे तो नई नवेली दुल्हन का स्वागत चप्पल से किया गया. जी हां, विनोद की मां यानी रेखा की सास कमला इस शादी को लेकर बेहद नाराज थीं. जैसे ही रेखा आशीर्वाद लेने के लिए झुकीं तुरंत उनकी सास ने उन्हें ढकेल दिया।

रेखा आज भी अपनी ज़िंदगी के कई राज अपने में सहेजे हुए है। इन सब के बाद उनका फिल्म इंडस्ट्री में इस तरह स्थापित रहना उनकी बुलंदी की दास्ताँ कहता है।उनकी दीवानगी आज भी दर्शको में देखी जा सकती है। 

 

 

वेब डेस्क IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News