News

मुश्किल में मोदी सरकार, विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर पर महिलाओं ने लगाए गंभीर आरोप

Created at - October 11, 2018, 8:49 am
Modified at - October 11, 2018, 8:49 am

नई दिल्ली। यौन शोषण के खिलाफ सोशल मीडिया पर चल रही 'मी टू कैंपेन' की चपेट में मोदी सरकार के विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर भी फंस गए हैं। तीन वरिष्ठ महिला पत्रकारों के आरोप के साथ पत्रकार गजला वहाब ने भी अकबर पर आरोप लगाए हैं। अकबर पर लगातार लग रहे आरोपों के बीच कांग्रेस ने मोदी सरकार से उनके इस्तीफे की मांग की है।आपको बतादें अकबर राजनीति में आने से पहले ऊंचे दर्जे के पत्रकार रहे हैं। उन्होंने द टेलीग्राफ और द एशियन एज जैसे बड़े अखबारों में संपादक की जिम्मेदारी निभाई है। 

पढ़ें- रेलवे कर्मचारियों को तोहफा, 78 दिन का वेतन बोनस के तौर पर मिलेगा, इतने कर्मचारियों को फायदा

गजला वहाब ने एम जे अकबर द्वारा यौन शोषण की उस समय की कहानी बयां की है, जब वो 1994 में अंग्रेजी अखबार 'द एशियन एज' में कार्य करती थीं और अकबर इस अखबार के संपादक थे। गजला ने बताया है कि किस तरह वे अकबर की लेखनी से प्रभावित थीं और पत्रकार बनना चाहती थीं। गजला ने 1997 के उन 6 महीनों का जिक्र किया है जब अकबर ने उन्हें अपने केबिन में बुलाकर उनके साथ अश्लील हरकतें की।

पढ़ें- भिलाई इस्पात संयंत्र हादसा : मृतक श्रमिकों के परिजनों को 30 लाख तो घायलों को 15 लाख रु. तक मिलेंगे

महिलाओं ने विस्तार से लिखा है कि किस तरह अकबर ने संपादक रहते हुए अपने पद का बेजा इस्तेमाल करते हुए उनके साथ यौन दुर्व्यवहार किया। कुछ पत्रकारों ने बताया कि अकबर ने अपने केबिन में बुलाकर कई बार उनके साथ दुर्व्यवहार किया। इसी तरह उनके द्वारा होटलों में बुलाकर पत्रकारों का नौकरी के लिए इंटरव्यू करना और वहां उनसे यौन लालसा से लिप्त बातें करने के आरोप भी लगाए गए हैं। इस बारे में अभी तक अकबर का पक्ष सामने नहीं आया है। हालांकि उनके साथ काम कर चुकीं एक महिला पत्रकार ने मी टू से जुड़ी पूरी बहस पर सवाल उठाया है।

पढ़ें- अतिथि प्राध्यापकों को मिली बड़ी राहत,निकाले गए गेस्ट लेक्चरर की होगी री-ज्वाइनिंग

गौरतलब है एक साल पहले अमेरिका में यौन शोषण के खिलाफ #MeToo कैंपेन की शुरुआत की थी।  जिसका मकसद यौनशोषण के बढ़ते मामलों को उजागर करना है। जो उजागर नहीं हो पाए हैं। और महिलाएं शोषित होती रही है। ऐसे मामलो को कैंपेन के तहत उजागर कर आरोपियों के खिलाफ एक्शन लिया जा सके। गजला के ट्वीट के बाद विदेश राज्यमंत्री के खिलाफ लगातार तीन महिला पत्रकारों ने सिलसिलेवार आरोप लगाए हैं। वरिष्ठ पत्रकार प्रिया रमानी, शूमा राहा और लेखिका प्रेरणा सिंह बिंद्रा ने अकबर पर आरोप लगाए हैं।

 

 

वेब डेस्क, IBC24

 


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News