News

मुखबिर की आशंका के चलते माओवादियों ने की ग्रामीण की हत्या

Created at - October 12, 2018, 1:57 pm
Modified at - October 12, 2018, 1:57 pm

पखांजूर।  चुनाव के आते ही  माओवादियो की गतिविधियां तेज होने लगती है।इसी के चलते बीती रात माओवादियो ने एक ग्रामीण की हत्या कर इलाके में पुनः दहशत  का माहौल पैदा कर दिया है।मिली जानकारी के अनुसार पखांजुर थाना अंतर्गत माचपल्ली निवासी रेजु राम आचला के घर बीती रात करीब 80 की संख्या में हथियार बन्द माओवादियो ने दस्तक दी और रेजु राम पर पुलिस मुखबिरी का आरोप लगाते हुए घर से बाहर निकाला।परिजन मना करते रहे उसके बावजूद माओवादियो ने एक न सुनी और रैजु राम को घर से बाहर निकाल जंगल की ओर ले गए ।

ये भी पढ़ें -तमिलनाडु से दुबई जा रही एयर इण्डिया की फ्लाइट टकराई दीवार से

 

जहां रैजु राम आचला पर पुलिस मुखबिरी का आरोप लगाते हुए मारपीट किये उसके बाद धारदार हथियार से उसकी हत्या कर दी ।ग्रामीण की हत्या करने के बाद उसका मृत शव माचपल्ली-स्वरूपनगर मार्ग पर फेंक दिया ।और सुबह जब ग्रामीण का मृत शव क्षेत्रवासियो ने देखा तो इलाके में दहशत का माहौल बन गया।घटना स्थल पर माओवादियो ने बैनर  टांगे है।जिसमे माओवादियो ने आरोप लगाया है कि माओवादियो ने सन 2008 में गांव में बैठक कर रेजु राम और उसके परिवार वालो को समझाया था कि पुलिस मुखबिरी न करें उसके बावजूद रेजु राम में कोई बदलाव नही आया लगातार पुलिस का मुखबिरी करता रहा।जिससे दस वर्ष बाद बीती रात को रेजु राम की हत्या कर दी गई है।घटना की जिम्मेदारी प्रतापपुर एरिया कमेटी के माओवादियो ने ली है।फिलहाल 12 बजे तक पुलिस मौके पर नही पहुंच सकी थी।वहीं दूसरी ओर छत्तीसगढ़ की सरकार 2022 तक नक्सलवाद खत्म करने का दावा जो कर रही है।वह बढ़ते घटनाओ को देखते हुए ऐसा लग रहा मानो 2022 तक माओवादियो का खात्मा करना सुरक्षाकर्मियो के लिए टेढ़ी खीर साबित होगी।

वेब डेस्क IBC24


Download IBC24 Mobile Apps

Trending News

Related News